SBA विशेष समाचार स्वास्थ्य की बात गांधी के साथ

स्वच्छता अभियान : गांधी ही क्यों?

किसी भी संकल्प के पूर्ण होने पर यजमान को आशीर्वाद मिलता है। यजमान की मनोकामना पूर्ण होती है। यज्ञ में पूर्णाहुति करते हुए भी यजमान का मन अपूर्ण रह जाता है। वह एक संकल्प की पूर्ति से प्रेरणा लेकर दूसरा संकल्प लेता है। देश और समाज को यह विश्वास करना चाहिए कि प्रधानमंत्री द्वारा संचालित इस स्वच्छता यज्ञ की भी पूर्णाहुति होगी। पुनः देश के विकास के एक महत्त्वपूर्ण आयाम के लिए नया संकल्प लिया जाएगा, परंतु यह सब तभी संभव है, जब देश का एक-एक व्यक्ति इस यज्ञ में तन-मन और धन से आहुति देगा। प्रधानमंत्री ने पुस्तकों से पढ़कर गांधी के सपनों को अपनी आँखों में उतारा है। भारतीय नागरिकों को नरेंद्र मोदी की आँखों में आए सपनों को अपनी आँखों में उतारना होगा। तभी यह अभियान दीर्घायु होकर समाज के आचरण में स्थायी रूप से ढल जाएगा। गांधी की आत्मा को शांति मिलेगी ही, समाज भी स्वस्थ, समृद्ध और सुखी होगा।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
चिंतन मन की बात

स्वस्थ भारत के लिए जरूरी है गौसंरक्षण

गाय के स्वास्थ्य संबंधी पहलू इतने ज़्यादा महत्वपूर्ण है कि अगर एक बार इसे समझ जाएँ तो धार्मिक पक्ष आड़े नहीं आयेगा। अंग्रेजों ने भारत को बीमार करने और संसाधनों की लूट में ऐसा जहर बोया कि गाय के व्यापारिक पक्ष एवं गुंडा तत्व ने अन्य लाभ पीछे करवा दिये। गाय से जुड़े स्वास्थ्य संबन्धित विभिन्न वैज्ञानिक पक्षों को समझने के बाद हम गाय का आर्थिक मॉडल समझ जाते हैं। अमित त्यागी के यह आलेख इंगित कर रहा है कि  अगर हम गौ संवर्धन पर ध्यान दे पाये तो गौसंरक्षण खुद ब खुद हो जायेगा एवं भारत स्वस्थ भी हो जाएगा

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें

फार्मासिस्ट भटक गए हैं! ऐसा मैंने क्यों कहा?

प्लास्टिक प्रदूषण के खिलाफ जरूरी है एक मुहिम

SBA विशेष आयुष काम की बातें

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस विशेष: वैश्विक होता योग

आशुतोष कुमार सिंह बड़ी आबादी वाले अपने देश में स्वस्थ समाज के निर्माण का कार्य बहुत बड़ी चुनौती है। विकास की दौड़ में गर सबसे ज्यादा नुकसान किसी चीज का हुआ है तो वो हमारा स्वास्थ्य ही है। अपने देश में अंग्रेजी दवा बाजार तकरीबन 90 हजार करोड़ रुपये (वार्षिक) का है। पिछले दिनों स्वस्थ भारत यात्रा […]

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें

गांधी का स्वास्थ्य चिंतन ही रख सकता है सबको स्वस्थःप्रसून लतांत

निरोगी काया के लिए जरूरी है कार्यस्थलों पर योग

अच्छी आदतों से जोड़ने का काम करता है योग

Myth & misconception about Homoeopathy

SBA विडियो

स्वास्थ्य जैसे मुद्दे पर पत्रकार कितने संवेदनशील हैं, यह एक बड़ा प्रश्न हैः उमाशंकर मिश्र, युवा पत्रकार

स्वास्थ्य और गरीबी में गहरा संबंध हैं। हिन्दी में स्वास्थ्य पत्रकारिता के तरीके से उमाशंकर मिश्र सहमत नहीं हैं। आखिर उनकी असहमति का कारण क्या है?  स्वास्थ्य के मुद्दों पर उमाशंकर मिश्र के विचार को आप यहां सुन सकते हैं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विडियो स्वस्थ भारत अभियान

जानिए कैसे आशुतोष के गुस्से ने नींव रखी ‘स्वस्थ भारत अभियान’ की

पिछले पांच वर्षों से स्वस्थ भारत अभियान लगातार चलाया जा रहा है। कंट्रोल मेडिसिन मैक्सिमम रिटेल प्राइस, जेनरिक लाइए पैसा बचाइए, नो योर मेडिसिन, स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज जैसे कैंपेन के माध्यम से देश को स्वास्थ्य के प्रति जागरुक करने वाले आशुतोष कुमार सिंह से इस साक्षात्कार में प्रभांशु ओझा ने उनके जीवन एवं इस अभियान की कहानी को जानने का प्रयास किया है। इसे जरूर देखें। इसे देखकर आपको अंदाजा हो जायेगा कि अगर एक आदमी ठान ले तो बहुत कुछ बदल सकता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विडियो काम की बातें स्वास्थ्य स्कैन

यह वीडियो सभी माताओं को जरूर देखनी चाहिए, आप अपने बच्चों को कहीं ‘कैंसर’ तो नहीं खिला रही हैं…

बच्चों को हम जो खिलाते हैं, जैसे खिलाते हैं, उसका असर उनके मन मनष्तिसक में होता ही है। ऐसे में अपने बच्चों को हेल्दी फूड खिलाना बहुत जरूरी होता है। कई बार टीवी पर चल रहे विज्ञापन को देखकर हम यह समझ लेते हैं, अमूक उत्पाद ज्यादा फायदेमंद हैं। लेकिन ऐसी बात नहीं है। नीचे दिया गया वीडियो दक्षिण भारतीय भाषा में है। इस वीडियो में कही गयी एक-एक बात को गौर से देखिए, आपके रोंगटे ख़ड़े हो जाएंगे। स्वस्थ भारत अभियान इस वीडियो को प्रोड्यूस करने वालों को साधुवाद प्रेषित करता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
अस्पताल समाचार

सरकारी अस्पतालों में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव नहीं पढ़ा पाएंगे ब्रांडेड दवाइयों का पाठ,बिहार सरकार का क्रांतिकारी फैसला

मेडिकल क्षेत्र के लिए बिहार से एक बहुत ही क्रांतिकारी खबर सामने आ रही है। बिहार सरकार ने सरकारी अस्पतालों में मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव को चिकित्सकों से मिलने पर प्रतिबंध लगा दिया है। सरकार का तर्क है इससे जेनरिक दवाइयों की मुहिम को नुक्सान हो रहा है। साथ ही मरीजों को दिए जाने वाले समय में भी बाधा उत्पन्न हो रही है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें

डॉ. ममता ठाकुर ने सर्वाइकल कैंसर के बारे में बालिकाओं को किया जागरुक

अंतरराष्ट्रीय योग दिवस विशेष: वैश्विक होता योग

निरोगी काया के लिए जरूरी है कार्यस्थलों पर योग

फेसबुक से हमसे जुड़े

Follow me on Twitter

कैटेगरी