समाचार

दंत-रोगों को हल्के में ले रही है हरियाणा सरकार, दंत चिकित्सकों को नौकरी से निकाल फेंका

हरियाणा से यह चौकाने वाला मामला सामने आया है। हरियाणा सरकार ने दांत के विशेषज्ञों को नौकरी से बाहर कर दिया है। सरकार अपने बजट का रोना रो रही है और कह रही है कि उन्हेें दांत के डॉक्टरों को सैलरी देने के लिए पैसा नहीं है। वह भी तब जब ये नियुक्तियां स्वास्थय मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा 31 मार्च 2016 तक मान्य हैं तथा इस कार्यक्रम के बजट का दो तिहाई हिस्सा भारत सरकार को देना है। स्वस्थ भारत अभियान हरियाणा सरकार के इस फैसले की निंदा करता है और मांग करता है कि डेंटल डॉक्टरों की नियुक्ति को बहाल रखा जाए ताकि आने वाली नई पीढ़ी को दंत-रोगों से बचाया जा सके।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

बीमार एनपीपीए की नैया राम-भरोसे!

नई दिल्ली/आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि देश को सस्ती व सुलभ दवाइयां उपलब्ध कराने का दावा करने वाला सरकारी नियामक नेशनल फार्मास्यूटिकल्स प्राइसिंग ऑथोरिटी (एन.पी.पी.ए) बिना चेयरमैन के चल रहा है ! जो पाठक एन.पी.पी.ए का नाम पहली बार सुन रहे हैं उनको यह जानना जरूरी है कि एन.पी.पी.ए ही पूरे भारत में दवाइयों की बढ़ती कीमतों पर लगाम लगाने वाली सरकारी एजेंसी है। ड्रग प्राइस कंट्रोल ऑर्डर को लागू करने की जिम्मेदारी एन.पी.पी.ए पर ही है। अर्थात् यदि आपको 2 रुपये की जगह 20 रुपये में दवाइयां मिल रही हैं, तो जिम्मेदार एन.पी.पी.ए ही है। कंपनियों से दवाइयों का उत्पादन डिटेल मंगाने से लेकर दवाइयों की उपलब्धता सुनिश्चित कराने तक की जिम्मेदारी इस प्राधिकरण पर है। इतनी बड़ी जिम्मेदारी है के बावजूद पिछले 6 महीनों से एनपीपीए ने अपने चेयरमैन की नियुक्ति नहीं की है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

तीन वर्ष का हुआ स्वस्थ भारत अभियान का प्रेरणास्रोत…

आज शिद्दिद का तीसरा जन्मदिन है। शिद्दिद हमेशा से इस अभियान का प्रेरणास्रोत रहा है। शिद्दिद गर्भा-काल से ही हमें प्रेरणा देता रहा है कि देश में स्वास्थ्य एक बहुत बड़ा मसला है। इस पर सोचना-समझना बहुत जरूरी है। स्वस्थ भारत अभियान के इस छोटे सम्राट को पूरी टीम की ओर से जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं प्रेषित करता हूं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
चिकित्सक संवेदनशील बनें
SBA विशेष अस्पताल

देश के गरीबों को ध्‍यान में रखें चिकित्सकः प्रधानमंत्री

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने सर्वांगीण स्‍वास्‍थ्‍य सेवा संबंधी विश्‍व रुझानों का उल्‍लेख किया। उन्‍होंने उत्‍तीर्ण छात्रों से आग्रह किया कि वे केवल बीमारी का इलाज न करें बल्‍कि मरीजों के साथ निकट का संबंध भी रखें। समारोह में निकट के सरकारी स्‍कूलों के बच्‍चों की उपस्‍थिति को देखकर प्रधानमंत्री ने कहा कि ये बच्‍चे ही इस अवसर पर असली विशेष अतिथि हैं। उन्‍होंने आशा व्‍यक्‍त की कि यह अवसर बच्‍चों को प्रेरित करेगा।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

पिछले सात घंटों से दिल्ली के अपोलो अस्पताल में ईलाज के लिए तरस रहा है फुजैल…

10 साल का एक गरीब अपोलो अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में तड़पता रहा, लेकिन डॉक्टरों ने एक न सुनी। मरीज को कभी ओपीडी में भेजा गया तो कभी इमरजेंसी में। ओपीडी के डॉक्टर इसे इमरजेंसी का केश बता रहे थे तो इमरजेंसी वाले ओपीडी का। इस लुका-छुपी के खेल में 4 घंटे तक मरीज को कोई डॉक्टर अटेंड तक नहीं किया।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

केवल रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट ही करेंगे होलसेल दवा कारोबार…

अबतक फार्मासिस्टों की मांग केवल रिटेल सेक्टर तक सिमित थी। सरकार ने नियम कानून में संसोधन कर अब होलसेल ड्रग लाइसेंस में फार्मासिस्टों की अनिवार्यता को हरी झंडी दे दी है! पहले मात्र दसवीं पास व्यक्ति को भी बड़ी आसानी से थोक कारोबार हेतु ड्रग लाइसेंस मिल जाते थे । लम्बे अर्से से फार्मासिस्ट रिटेल के साथ ही होलसेल ड्रग लाइसेंस में भी रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की अनिवार्यता की मांग कर रहे थे !

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

स्वास्थ्य-मित्रो! आप एक हों, हम आपके साथ हैं…

मुझे लगता है कि एक तरफ सरकार की स्वास्थ्य नीतियां जिम्मेदार रही हैं लेकिन उसी के समानांतर मुझे यह भी लगता है कि फार्मासिस्टों ने जिस दिन से खुद को बेचना शुरू किया उस दिन से उनकी आवाज दबती चली गयी। आप मित्रो को यह पता लगना होगा कि वह कौन पहला फार्मासिस्ट रहा होगा जिसने अपना सर्टीफिकेट चंद रुपयों की लालच में गिरवी रखा होगा। इन्हीं चंद रुपयों की लालच ने आपको कमजोर कर दिया। आप कभी एक नहीं हो पाएं। आपकी समस्याएं और बड़ी होती चली गयीं और आप मन ही कभी सरकार को तो कभी खुद को कोसते रह गए।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

तालाबों की सफाई की याद बार-बार दिलाते रहे बापू

गांवो के तालाब से स्त्री और पुरूष सब स्नान करने, कपड़े धोने, पानी पीने तथा भोजन बनाने का काम लिया करते हैं। बहुत से गांवों के तालाब पशुओं के काम भी आते हैं। बहुधा उनमें भैंसे बैठी हुई पाई जाती हैं। आश्चर्य तो यह है कि तालाबों का इतना पापपूर्ण दुरुपयोग होते रहने पर भी महामारियों से गांवों का नाश अब तक क्यों नहीं हो पाया है?

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

राष्ट्रपति ने किया पल्स पोलियो कार्यक्रम का शुभारंभ

राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने राष्ट्रपति भवन में बच्चों को पोलियो की दवा देकर 2015 के लिए पल्स पोलियो कार्यक्रम की शुरूआत की। 18 जनवरी को राष्ट्रीय टीकाकरण दिवस के रूप में मनाया जाता है। देश को पोलियो मुक्त बनाने के भारत सरकार की मुहिम के तहत देश भर में पांच साल से छोटे 174 मिलियन बच्चों को पोलियो की दवा दी जाएगी।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

स्वास्थ्य मसले पर सक्रिय हुई मोदी सरकार!

प्रधानमंत्री ने विशेषकर बच्‍चों के बीच एन्‍सेफ्लाइटिस जैसी बीमारियां फैलने पर गंभीर चिंता जताते हुए अधिकारियों से कहा कि प्राकृतिक आपदाओं और अन्‍य राष्‍ट्रीय आपदाओं की ही भांति इन बीमारियों से भी निपटने का खाका तैयार किया जाना चाहिए।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें