समाचार

पोलियो उन्मूलन के लिए भारत को मिली वैश्विक सराहना,2011 के बाद भारत में पोलियों का एक भी मामला सामने नहीं आया है

विशेषज्ञों के समूह ने-पिलाने और सूई द्वारा दिए जाने वाले पोलियो टीकों- दोनों का उपयोग करने के लिए भारत की सराहना की और तारीफ करते हुए कहा कि भारत ने इस दिशा में जिस तरह से कार्य किया उससे भारत में आने वाले समय में भी कोई बच्चा पोलियो का शिकार न हो पायेगा, यह बहुत ही सराहनीय कार्य है। सामुदायिक भागीदारी देश में पोलियो टीकाकरण प्रयासों का एक अभिन्न अंग रहा है। विशेषज्ञों के समूह ने देखा कि 23 लाख से अधिक टीकाकरणकर्ताओं को हर पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिए एकत्रित किया गया है, जिसके दौरान 17 करोड़ बच्चों को पोलियो की बूंद पिलायी गयी

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष आयुष

All you want to know about Homoeopathy

You are right in choosing Homoeopathy System of Medicine for treatment of disease or ailment you are suffering from. At present, you have before you a variety of system of medicine. No one system is of lesser importance than any other. However, Homoeopathy has its own special place in the field of treatment of disease. Homoeopathic prescriptions aim at the disease symptoms treating the patient as a whole. Besides removing the disease symptoms they also enhance the existing healing power of the patient, so that these symptoms do not reappear.

 

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

20 राज्यों ने आयुष्मान भारत-राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (एबी-एनएचपीएम) को लागू करने के लिए सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए  

स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, आप लोग बहुत भाग्यशाली हैं कि आपके कार्यकाल में दुनिया का सबसे बड़ा स्वास्थ्य संरक्षण कार्यक्रम लागू किया जा रहा हैं। 10 साल बाद आपको खुद कहेंगे कि आप उस टीम के सदस्य रहे जिसने दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य कवरेज कार्यक्रम को लागू कराने का काम किया। पत्रकारों को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह एक बड़ी योजना है, इसे हम पहली बार इतने बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी चल रही है, ऐसे में संभव है कि कुछ कमियां निकले। आपलोग उन कमियों को हमसे साझा कीजिए, उसे दूर करने का हम प्रयास करेंगे।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विडियो

स्वास्थ्य जैसे मुद्दे पर पत्रकार कितने संवेदनशील हैं, यह एक बड़ा प्रश्न हैः उमाशंकर मिश्र, युवा पत्रकार

स्वास्थ्य और गरीबी में गहरा संबंध हैं। हिन्दी में स्वास्थ्य पत्रकारिता के तरीके से उमाशंकर मिश्र सहमत नहीं हैं। आखिर उनकी असहमति का कारण क्या है?  स्वास्थ्य के मुद्दों पर उमाशंकर मिश्र के विचार को आप यहां सुन सकते हैं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में आपातकालीन प्रसूति सेवाओं का अभाव

भारत में सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाएं ग्रामीण और वंचित वर्ग के लोगों के लिए विशेष रूप से महत्व रखती हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में करीब 80 प्रतिशत संस्थागत प्रसव होते हैं और इनमे से 70 प्रतिशत प्रसव सार्वजनिक संस्थाओं में होते हैं। इसी तरह शहरी क्षेत्रों में 89 प्रतिशत से अधिक संस्थागत प्रसव होते हैं। इनमें से 47 प्रतिशत प्रसव सार्वजनिक संस्थाओं में होते हैं। सार्वजनिक स्वास्थ्य सेवाओं पर गरीब अधिक आश्रित रहते हैं। इसलिए इन सेवाओं के कमजोर होने का सबसे अधिक असर गरीबों पर पड़ता है। अध्ययनकर्ताओं के अनुसार स्वास्थ्य सेवाओं को बेहतर बनाने के लिए सरकार को अधिक निवेश करने की आवश्यकता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

केरल से निपाह वायरस का खतरा टला, केरल जाना अब सुरक्षित

गर्मियों की छुट्टी में केरल जाने का प्लान कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब वे अपना टीकट बुक करा सकते हैं। निपाह वायरस का  खतरा टल गया है। दरअसल स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, केरल सरकार ने 11 जून को जारी नए एडवाइजरी में कहा है कि केरल में निपाह वायरस का खतरा टल गया है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

स्वास्थ्यः48 महीने का कामकाज, जे.पी नड्डा ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को पूरी छूट दी है कि वे अपनी सुविधा के अनुसार स्वास्थ्य प्रणाली का संचालन करें। साथ ही केंद्र राज्यों को वित्तीय सहयोग देने के लिए तैयार है। श्री नड्डा ने बताया कि पिछले 3 वर्षों में फ्री ड्रग और डायग्नोस्टिक सेवा पहल के तहत 14000 करोड़ रुपये की दवाइयों का वितरण हुआ है। प्रधानमंत्री नेशनल डायलिसिस कार्यक्रम का 2.38 लाख रोगियों को फायदा मिला है। अमृत केंद्रों पर बाजार दर से 60-90 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां प्रदान की जा रही हैं। इनमें कैंसर और हृदय संबंधी जैसे रोगों की दवाइयां भी शामिल हैं। अबतक इन केंद्रों से रोगियों को कुल 346.59 करोड़ रुपए का फायदा पहुंचा है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष काम की बातें

Brain drain reversal is gathering steam

It is a silent change which has been occurring over the past one decade. The schemes launched to reverse the process of infamous ‘brain drain’ have finally started yielding results. The number of young scientists returning to do scientific research in India and taking up positions in research and academic institutions is steadily rising. The quality of research output of these returnees is also very high.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

46 प्रतिशत महिलाएं माहवारी में लेती हैं दफ्तर से छुट्टी:सर्वे

 भारत में 60 फीसद कामकाजी महिलाएं मासिक धर्म के दौरान तैराकी, योग, नृत्य, जिम इत्यादि में भाग नहीं ले पाती हैं।  फेमिनिन हाइजीन प्रोडक्ट्स ब्रांड एवेरटीन के तीसरे माहवारी स्वच्छता सर्वे यह बात सामने आई है। इस सर्वे में भारत के 85 शहरों से 2000 से ज्यादा महिलाओं में भाग लिया. इस सर्वे में के परिणामों पर गौर किया जाए तो कुल प्रतिभागियों में से 49 फीसद महिलाओं ने माना कि वे माहवारी के दौरान काम पर ध्यान नहीं दे पाती, 58 फीसद महिलाओं ने कहा कि माहवारी उनकी कार्यक्षमता पर असर डालता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें समाचार

सैनेटरी पैड के सुरक्षित निपटारे के लिए नया उपकरण

देश भर में करीब 43.2 करोड़ उपयोग किए गए सैनेटरी नैपकिन हर महीने फेंक दिए जाते हैं। भविष्य में यह संख्या तेजी से बढ़ सकती है। सैनेटरी नैपकिन का सही ढंग से निपटारा न होने से चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं क्योंकि उपयोग किए गए सैनेटरी नैपकिन में कई तरह के रोगाणु होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने के साथ-साथ पर्यावरण के लिए भी नुकसानदायक हो सकते हैं। कई बार उपयोग के बाद सैनेटरी नैपकिन इधर-उधर फेंक देने से जल निकासी भी बाधित हो जाती है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें