समाचार

28 सितंबर को लखनऊ में फार्मासिस्टों की महारैली

यूपी के चर्चित ड्रग लाइसेंस घोटाले की सीबीआई जांच की माग जोर पकड़ने लगी है। इस घोटाले से पर्दा उठाने के लिए देश भर के फार्मासिस्ट आंदोलन के मूड में हैं। इसी संदर्भ में यूपी की संस्था फार्मासिस्ट फाउंडेशन ने 28 सितम्बर को लखनऊ में एक महारैली का आयोजन करने जा रही है। इस बावत संस्था के अध्यक्ष अमित श्रीवास्तव ने बताया कि, सुबह 10 बजे ग्लोब पार्क से रैली शुरू होगी जो एफडीए होते हुए मेडिकल चौक तक जायेगी।उन्होंने आगे बताया कि प्रदेश स्तरीय रैली में यूपी समेत राजस्थान, झारखण्ड बिहार, छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों के फार्मासिस्ट संगठन भी सिरकत कर रहे हैं!

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

बिलासपुर में फार्मासिस्टों की आपात बैठक

गैर क़ानूनी तरीके से चलाये जा रहे मेडिकल दुकान को लेकर छत्तीसगढ़ फार्मासिस्ट एसोसिएशन का आंदोलन एक बार फिर से तुल पकड़ता जा रहा है। पिछले दिनों बिलासपुर में केमिस्ट और फार्मासिस्ट संगठनों के बीच तीखी नोक-झोक हुई थी। केमिस्ट संगठन के अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल द्वारा जान से मारने की धमकी के बाद फार्मासिस्ट उग्र हो उठे थे और जिलाधिकारी का घेराव किया था ।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

यूपी को ढाई लाख फार्मासिस्ट देने के लिए हम तैयार हैं!

आपने PAID Reporting रिपोर्टिंग का नाम सुना होगा मतलब पैसे लेकर खबर लिखना। वैसे पत्रकारिता में आजकल यह आम बात हो गई है ! पर दैनिक जागरण जैसा प्रतिष्ठित अख़बार ऐसी गैर जिम्मेदार हरकत करे यह दुःखद है। दैनिक जागरण लखनऊ संस्करण में छपी इस न्यूज़ में जस्टिस के एल शर्मा शर्मा के रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि पूरी तरह क़ानूनी रूप से दवा दुकान चलने हेतु यूपी को करीब ढाई लाख फार्मासिस्ट चाहिए। आपत्ति उनकी सर्वे रिपोर्ट पर विल्कुल नहीं पर, हाँ शर्मा जी के सुझाव पर जरूर है ! क्या #जज_साहेब ने इसपर स्टडी नहीं की कैसे सारे नियम कानून ताक पर रखकर गैर क़ानूनी रूप से लाखों ड्रग लाइसेंस बनाये गए ? अरे जज साहब, ख़ुशी होती जब आप अपनी निष्पक्ष जांच कर सीबीआई जांच हेतु अनुशंसा करते और ड्रग लाइसेंस घोटाले में लिप्त दोषी #FDA अधिकारिओं को फांसी की सजा की मांग करते !

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

ड्रग माफियाओं ने दी जान से मारने की धमकी, गुस्से में हैं बिलासपुर के फार्मासिस्ट

बिलासपुर के फार्मासिस्टों का पोल खोल अभियान को रोकने के लिए औषधि प्रसाशन और ड्रग माफिया एकजूट हो गए है | आज जब पोल खोल की टीम मीडिया रिपोर्ट और सबूतों के साथ ड्रग इंस्पेक्टर के ऑफिस पहुंची और कारवाही करने को कहा। पोल खोल अभियान की टीम देखकर ड्रग इंस्पेक्टर प्रीतम ओन्ग्रे और राजू खत्री मामले को भांप कर उन्हें आधे घण्टे के बाद आने को कहा। अभियान का नेतृत्व कर रहे फार्मा एक्टिविस्ट अभिषेक सिंह ने बताया की केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष सुभाष अग्रवाल ने उन्हें फ़ोन कर ड्रग इंस्पेक्टर ऑफिस बुलाया ! जब फार्मासिस्टों की टीम ड्रग ऑफिस पहुंची वहां केमिस्ट एसोसिएशन के नेताओं का जमावड़ा पहले से ही लगा हुवा था। केमिस्ट संगठन के प्रमुख सुभाष अग्रवाल ने पहले पैसे लेकर मामले को रफा दफा करने की कोशिश की! फिर बात नहीं बनते देख ड्रग इस्पेक्टर के ऑफिस में ही सरे आम जान से मारने की धमकी दी!

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष

कब जागेगी पीसीआई!

हम सब को मालूम है कि फार्मासिस्टों के हितो की रक्षा करने के लिए एक सरकारी संस्था काम करती है। जिसका नाम है फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया। लेकिन जब से मैं फार्मेसी काउंसिल के कार्यों को जानने-समझने लगा हूं मुझे लगता है कि यह संस्थान केवल कागजों पर ही पहाड़ खड़ा करती रही है। हम फार्मासिस्टों की दशा व दिशा से इसे शायद ही कुछ लेना-देना रहा हो। केमिस्ट एसोसिएशनों की गोद में बैठी यह संस्था आज अपना वजूद खो चुकी है। इसे जगाने की जरूरत है। दिल्ली में हमलोगों ने पिछले दिनों इस कॉउंसिल को उसके मूल काम को याद दिलाने की कोशिश की थी…लेकिन अभी बहुत कुछ करना बाकी है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें