• Home
  • समाचार
  • बिलासपुर नसबंदी मामला, दवा कंपनी का मालिक और बेटा गिरफ्तार
समाचार

बिलासपुर नसबंदी मामला, दवा कंपनी का मालिक और बेटा गिरफ्तार

गंदे हाथों ने ले ली जान...
गंदे हाथों ने ले ली जान…

रायपुर। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले में नसबंदी के बाद 19 महिलाओं की मौत के मामले में पुलिस ने दवा कंपनी के मालिक और उसके बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। रायपुर जिले के पुलिस अधीक्षक ओपी पाल ने आज यहां भाषा को बताया कि बिलासपुर जिले के पेंडारी और पेंडरा गांव में नसबंदी शिविर के दौरान 19 महिलाओं की मौत के मामले में पुलिस ने रायपुर स्थित महावर फार्मा प्राइवेट लिमिटेड कंपनी के मालिक रमेश महावर और उसके बेटे सुमित महावर को गिरफ्तार कर लिया है। दोनों को खाद्य एवं औषधि प्रशासन विभाग की शिकायत के बाद गिरफ्तार किया गया है। पाल ने बताया कि बिलासपुर में नलबंदी के दौरान महिलाओं को महावर कंपनी की दवाई एंटीबायोटिक सिप्रोसीन 500 दी गई थी। बाद में महिलाओं की तबीयत बिगड़ गई और 13 महिलाओं की मौत हो गई। महिलाओं की मौत के बाद खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने महावर फार्मा की दवाई सिप्रोसीन 500 पर प्रतिबंध लगा दिया था। बाद में औषधि निरीक्षक तृप्ति जैन की रिपोर्ट पर महावर फार्मा के खिलाफ मामला दर्ज किया गया। बिलासपुर जिले में नसबंदी के बाद महिलाआें की मौत की घटना के बाद खाद्य एवं औषधि प्रशासन ने इन महिलाओं को दी गई दवाओं की गुणवत्ता को लेकर आशंका जताई थी तथा छह दवाओं पर प्रतिबंध लगा दिया था। वहीं जब महावर फार्मा कंपनी में छापा मारा गया तब पाया गया कि परिसर में कुछ दवाओं को जला दिया गया है। औषधि प्रशासन महावर फार्मा कंपनी द्वारा सरकारी अस्पतालोंं को दवा उपलब्ध कराए जाने के मामले की जांच कर रहा है। इधर औषधि प्रशासन ने बृहस्पतिवार की शाम बिलासपुर स्थित कविता फार्मा में छापा मारा तथा यहां से दवाओं का नमूना एकत्र किया गया था। कविता फार्मा कंपनी ने बिलासपुर जिले में हुए नसबंदी शिविर में दवाआें की आपूर्ति की थी। छत्तीसगढ़ के बिलासपुर जिले के पेंडारी गांव में इस महीने की आठ तारीख को 83 महिलाओं की तथा 10 तारीख को पेंडरा इलाके में 56 महिलाओं की नसबंदी की गई थी। आपरेशन के बाद महिलाओं की तबीयत बिगड़ गई और 13 महिलाओं की मृत्यु हो गई । 138 महिलाएं बीमार हैं। घटना के बाद राज्य शासन ने दो अधिकारियों को बर्खास्त कर दिया तथा दो अन्य को निलंबित कर दिया। एक चिकित्सक को इस मामले में गिरफ्तार किया गया है। मामले के न्यायिक जांच के आदेश दिए गए हैं।

साभारःhttp://www.hellocg.com/

Related posts

स्वास्थ्य मंत्रालय को संपादक ने लगाई फटकार…

swasthadmin

अंखड ज्योति आई अस्पतालः जहां 5 लाख लोगों की निःशुल्क हुई आंखों की सर्जरी…

बीपीएल परिवार की महिलाओं को एलपीजी कनेक्शन दिए जाने की घोषणा ऐतिहासिक : प्रधान

Leave a Comment

Login

X

Register