काम की बातें विविध समाचार

New way found to enhance strength and ductility of high entropy alloys

In a study published in a journal, Scientific Reports, the researchers have reported that novel heterogeneous microstructure achieved by a process of cryo-deformation followed by annealing can help overcome the problem of strength-ductility trade-off in multiphase HEAs. The researchers are from Indian Institute of Technology, Hyderabad, Kyoto University, Japan and Chalmers University, Sweden.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध समाचार

वैज्ञानिकों ने बनाया चलता-फिरता सौरकोल्ड स्टोरेज

भारत विश्व में फल और सब्जियों का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक देश है।लेकिन, पर्याप्त शीत भंडारण सुविधाएं नहीं होने से 30 से 35 प्रतिशत फल और सब्जियां लोगों तक पहुंचने से पहले ही खराब हो जाती हैं। किसानों को फलों और सब्जियों को तुरंत बाजार ले जाकर बेचने और गुणवत्ता खराब होने का नियमित दबाव बना रहता है। इस नए कोल्ड-स्टोरेज के उपयोग से किसान उत्तम गुणवत्ता की भंडारण सुविधाओं का लाभ छोटे स्तर पर अपनी आवश्यकतानुसार उठा सकेंगे।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें समाचार

माहवारी गौरव का क्षण है, इसके बारे में खुलकर बात करेंः डॉ. ममता ठाकुर

दिल्ली सरकार  के स्वास्थ्य मंत्री  सत्येंद जैन ने कहा कि दिल्ली सरकार दिल्ली में स्थित सभी १० बेड के प्राइवेट अस्पतालों को भी सरकारी पैनेल में लेने के ऊपर काम कर रही है। इसके अलावा उन्होंने कहा कि, स्वच्छता को  मद्देनजर रखते हुए सभी प्राइवेट अस्पतालों और क्लीनिकों को भी मेडिकल वेस्ट मैनेजमेंट के तहत रजिस्ट्रेशन अनिवार्य होगा। उन्होंने रोगियों और और उनके परिजनों से आह्वान किया कि अस्पताल में शांति बनाये रखें एवं किसी भी परिस्थिति में इलाज करने वाले डॉक्टरों को उत्तेजित होकर आरोप न लगायें । डॉक्टर कभी भी अपने तरफ से जानबूझ कर गलती नहीं करते है ,बल्कि वह भी इंसान ही है भगवान नहीं । स्वास्थ्य मंत्री ने डी एम ए के अध्यक्ष डॉ अश्विनी गोएल, सचिव डॉ जी .एस .ग्रेवाल और डॉ मणिकांत सिंघल सहित  पूरी डी एम ए टीम को कार्यक्रम आयोजन के लिए उन्होंने धन्यवाद ज्ञापित किया।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध समाचार

Menstrual Hygiene Day Period Fest’ 18 & Pad Yatra : All days are good days!

Post this, the Sachhi Saheli team escorted the crowd and gathered them for the pad yatra. The crowd bearing placards and banners with slogans such as “My Period My Proud”, “Break the Bloody Taboo” marched in unison around the inner circle in Connaught Place. The rally was later joined by day’s Chief guest Hon’ble Dy. Chief Minister Mr. Manish Sisodia as well.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध समाचार

The microneedle-based system can take the pain away from vaccinations

The new device, according to the researchers, would result in improved stability of antigen after coating on to zeinmicroneedles. The research team used micro molding, a fabrication technique used for replicating microstructures to cast cone-shaped zein microneedles. Microneedles, unlike a syringe needle, do not cause many injuries as they need a minimal invasion of the skin.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें समाचार

Artificial membrane inspired by fish scales may help in cleaning oil spills

Scientists are trying to exploit this property for developing novel materials that can find application in addressing oil pollution. The objective is to synthesize artificial interfaces that have oil repelling property or underwater superoleophobicity.

In this direction, a group of researchers at the Indian Institute of Technology (IIT), Guwahati, have developed a stretchable underwater superoleophobic membrane that can separate water from various forms of oil-contaminations.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष बचाव एवं उपचार मन की बात

मोदी सरकार के चार सालः टीकाकरण की दिशा में सार्थक पहल

टीकाकरण की पहल का स्वागत किया जाना चाहिए लेकिन इस बात पर ध्यान दिए जाने की जरूरत है कि आखिर यह टीका पेशेवर एवं प्रशिक्षित हाथों से कैसे दिलाया जाए। टीका के मामले में सबसे ज्यादा शिकायत इसी बात की होती है कि टीका देने वाले प्रशिक्षित नहीं है। अगर प्रशिक्षित हाथों से टीका नहीं पड़ा तो इसका गलत प्रभाव भी बच्चों पर पड़ सकता है। ऐसे में सरकार को इस बात को सुनिश्चित करना होगा कि टीका को टेंपरेचर मेंटेन हो और सुरक्षित हाथों से ही शिशुओं एवं गर्भवती महिलाओं को टीका दी जाए।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें मन की बात

चिकित्सक-मरीज के बीच सार्थक संवाद जरूरी

संसद में 2012 में यह कहा गया कि देश की दवा कंपनियां 1100 फीसद तक मुनाफा कमा रही है। इसको लेकर पूरे देश में बहुत हो-हल्ला मचा था। इसी बीच डीपीसीओ-2013 की ड्राफ्ट नेशनल फार्मास्यूटिकल्स प्राइसिंग ऑथोरिटी ने जारी किया था। उस मसौदे में दवाइयों की कीमतों को तय करने की जो सरकारी विधी बताई गई थी, उसका विरोध होना शुरू हुआ। बावजूद इसके बाजार आधारित मूल्य निर्धारण नीति को डीपीसीओ-2013 का हिस्सा बनाया गया। इसका नुकसान यह हुआ कि दवाइयों को लेकर जो लूट मची थी, वह कम होने की बजाय यथावत रह गई। 2014 में बनी नई सरकार ने आम लोगों को सस्ती दवाइयां उपलब्ध कराने के लिए जनऔषधि केन्द्र को बढ़ावा देना शुरू किया है। लेकिन इसकी उपलब्धता अभी सीमित है। ऐसे में दवा के नाम पर उपभोक्ता लगातार लूटे जा रहे हैं। ऐसे में उपभोक्ताओं को जागरुक तो होना ही पड़ेगा ताकि संगठित लूट से वे खुद को बचा पाएं।

 

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
आयुष काम की बातें बचाव एवं उपचार

नींबू-वंशीय फल चकोतरा में मिले मधुमेह-रोधी तत्व

मधुमेह के शुरुआती चरण में मरीजों के उपचार के लिए भोजन के बाद हाई ब्लड शुगर को नियंत्रित करना चिकित्सीय रणनीति का एक प्रमुख हिस्सा है। इसके लिए कार्बोहाइड्रेट के जलीय अपघटन के लिए जिम्मेदार एंजाइमों को बाधित करने की रणनीति अपनायी जाती है। रक्त में ग्लूकोज के बढ़ते स्तर को धीमा करने के लिए इन एंजाइमों के अवरोधकों का उपयोग किया जाता है। नरिंगिन जैविक रूप से सक्रिय एक ऐसा ही एंजाइम है, जो कार्बोहाइड्रेट के जलीय अपघटन से जुड़ी गतिविधियों के अवरोधक के तौर पर काम करता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध

केन्द्रीय उच्च स्तरीय टीम: निपाह वायरस से फैला रोग प्रकोप नहीं, बल्कि मात्र स्थानीय स्तर का संक्रमण है 

केन्द्रीय टीम ने अस्पतालों में भर्ती मरीजों की स्थिति की समीक्षा करने और रोग के रोकथाम के लिए आगे की कार्रवाई पर विचार-विमर्श के लिए आज जिलाधीशों और अस्पताल के चिकित्सा तथा परा-चिकित्सा कर्मचारियों के साथ बैठक की। रोग नियंत्रण के लिए अब तक किए गए प्रयास सफल रहे हैं, क्योंकि नए क्षेत्रों में यह बीमारी नहीं फैली है। वायरस के सम्पर्क में आने वाले लोगों की पहचान करने की रणनीति भी सफल रही है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें