समाचार

पोलियो उन्मूलन के लिए भारत को मिली वैश्विक सराहना,2011 के बाद भारत में पोलियों का एक भी मामला सामने नहीं आया है

विशेषज्ञों के समूह ने-पिलाने और सूई द्वारा दिए जाने वाले पोलियो टीकों- दोनों का उपयोग करने के लिए भारत की सराहना की और तारीफ करते हुए कहा कि भारत ने इस दिशा में जिस तरह से कार्य किया उससे भारत में आने वाले समय में भी कोई बच्चा पोलियो का शिकार न हो पायेगा, यह बहुत ही सराहनीय कार्य है। सामुदायिक भागीदारी देश में पोलियो टीकाकरण प्रयासों का एक अभिन्न अंग रहा है। विशेषज्ञों के समूह ने देखा कि 23 लाख से अधिक टीकाकरणकर्ताओं को हर पोलियो अभियान को सफल बनाने के लिए एकत्रित किया गया है, जिसके दौरान 17 करोड़ बच्चों को पोलियो की बूंद पिलायी गयी

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

देश के 100 जिले हुए लिम्फेटिक फाइलेरिया से मुक्त, 156 जिलों में अभी भी है इस बीमारी का असर

लिम्फेटिक फाइलेरिया के संचरण और इस बीमारी को जड़ से समाप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है ताकि भावी पीढियां इस बीमारी से मुक्त रहें। भारत ने लिम्फेटिक फाइलेरिया को समाप्त करने के प्रयासों तथा इस संदर्भ में किये जाने वाले शोध का हमेशा से स्वागत किया है। उक्त बातें केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे.पी नड्डा ने  लिम्फेटिक फाइलेरिया को समाप्त करने के लिए आयोजित वैश्विक गठबंधन की 10वीं बैठक (जीएईएलएफ) का उद्घाटन सत्र को संबोधित करते हुए कही। प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए श्री नड्डा ने कहा कि लिम्फेटिक फाइलेरिया को समाप्त करने की दिशा में भारत ने महत्वपूर्ण प्रगति की है। केन्द्र सरकार, राज्य सरकारों व विकास संगठनों के सम्मिलित प्रयास से सर्वाधिक प्रभावित 256 जिलों में से 100 जिलों ने उन्मूलन लक्ष्य हासिल कर लिया है। संचरण मूल्यांकन सर्वे (टीएएस) द्वारा सत्यापन के बाद इन जिलों में बड़े पैमाने पर दी जाने वाली दवा कार्यक्रम को रोक दिया गया है। अभी ये जिले निगरानी में हैं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

20 राज्यों ने आयुष्मान भारत-राष्ट्रीय स्वास्थ्य सुरक्षा मिशन (एबी-एनएचपीएम) को लागू करने के लिए सहमति पत्रों पर हस्ताक्षर किए  

स्वास्थ्य मंत्रियों के सम्मेलन को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, आप लोग बहुत भाग्यशाली हैं कि आपके कार्यकाल में दुनिया का सबसे बड़ा स्वास्थ्य संरक्षण कार्यक्रम लागू किया जा रहा हैं। 10 साल बाद आपको खुद कहेंगे कि आप उस टीम के सदस्य रहे जिसने दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य कवरेज कार्यक्रम को लागू कराने का काम किया। पत्रकारों को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि यह एक बड़ी योजना है, इसे हम पहली बार इतने बड़े पैमाने पर लागू करने की तैयारी चल रही है, ऐसे में संभव है कि कुछ कमियां निकले। आपलोग उन कमियों को हमसे साझा कीजिए, उसे दूर करने का हम प्रयास करेंगे।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

केरल से निपाह वायरस का खतरा टला, केरल जाना अब सुरक्षित

गर्मियों की छुट्टी में केरल जाने का प्लान कर रहे लोगों के लिए अच्छी खबर है। अब वे अपना टीकट बुक करा सकते हैं। निपाह वायरस का  खतरा टल गया है। दरअसल स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, केरल सरकार ने 11 जून को जारी नए एडवाइजरी में कहा है कि केरल में निपाह वायरस का खतरा टल गया है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
अस्पताल समाचार

अंखड ज्योति आई अस्पतालः जहां 5 लाख लोगों की निःशुल्क हुई आंखों की सर्जरी…

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, अंखड ज्योति आई अस्पताल के रजनीकांत केन्द्र का उद्घाटन करते हुए आशा करता हूं कि  आंखों के देखभाल के क्षेत्र में  यह केन्द्र सस्ती एवं सुलभ सेवा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि यह केन्द्र उच्च गुणवत्ता की के साथ आंखों की देखभाल करने में सफल होगा और अंधेपन को दूर करने के लिए चलाए जा रहे राष्ट्रीय कार्यक्रम को सफल बनाने में सहायक भी साबित होगा।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

स्वास्थ्यः48 महीने का कामकाज, जे.पी नड्डा ने जारी किया रिपोर्ट कार्ड

केंद्र सरकार ने राज्य सरकारों को पूरी छूट दी है कि वे अपनी सुविधा के अनुसार स्वास्थ्य प्रणाली का संचालन करें। साथ ही केंद्र राज्यों को वित्तीय सहयोग देने के लिए तैयार है। श्री नड्डा ने बताया कि पिछले 3 वर्षों में फ्री ड्रग और डायग्नोस्टिक सेवा पहल के तहत 14000 करोड़ रुपये की दवाइयों का वितरण हुआ है। प्रधानमंत्री नेशनल डायलिसिस कार्यक्रम का 2.38 लाख रोगियों को फायदा मिला है। अमृत केंद्रों पर बाजार दर से 60-90 फीसदी कम कीमत पर दवाइयां प्रदान की जा रही हैं। इनमें कैंसर और हृदय संबंधी जैसे रोगों की दवाइयां भी शामिल हैं। अबतक इन केंद्रों से रोगियों को कुल 346.59 करोड़ रुपए का फायदा पहुंचा है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

46 प्रतिशत महिलाएं माहवारी में लेती हैं दफ्तर से छुट्टी:सर्वे

 भारत में 60 फीसद कामकाजी महिलाएं मासिक धर्म के दौरान तैराकी, योग, नृत्य, जिम इत्यादि में भाग नहीं ले पाती हैं।  फेमिनिन हाइजीन प्रोडक्ट्स ब्रांड एवेरटीन के तीसरे माहवारी स्वच्छता सर्वे यह बात सामने आई है। इस सर्वे में भारत के 85 शहरों से 2000 से ज्यादा महिलाओं में भाग लिया. इस सर्वे में के परिणामों पर गौर किया जाए तो कुल प्रतिभागियों में से 49 फीसद महिलाओं ने माना कि वे माहवारी के दौरान काम पर ध्यान नहीं दे पाती, 58 फीसद महिलाओं ने कहा कि माहवारी उनकी कार्यक्षमता पर असर डालता है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें समाचार

सैनेटरी पैड के सुरक्षित निपटारे के लिए नया उपकरण

देश भर में करीब 43.2 करोड़ उपयोग किए गए सैनेटरी नैपकिन हर महीने फेंक दिए जाते हैं। भविष्य में यह संख्या तेजी से बढ़ सकती है। सैनेटरी नैपकिन का सही ढंग से निपटारा न होने से चुनौतियां खड़ी हो सकती हैं क्योंकि उपयोग किए गए सैनेटरी नैपकिन में कई तरह के रोगाणु होते हैं, जो स्वास्थ्य के लिए हानिकारक होने के साथ-साथ पर्यावरण के लिए भी नुकसानदायक हो सकते हैं। कई बार उपयोग के बाद सैनेटरी नैपकिन इधर-उधर फेंक देने से जल निकासी भी बाधित हो जाती है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार

46% Indian women take leave from work during periods: everteen Menstrual Hygiene Survey 2018

Sanitary pads are still the most used sanitary product among Indian women (92%), whereas modern methods of menstrual hygiene such as tampons and menstrual cups are used by 7% of Indian urban women. With most women still relying on traditional methods, 70% Indian women said periods had an impact on their peace of mind. Out of these, 22% women worry a lot about risk of staining or spotting on clothes. 66% women said they felt irritated or depressed during menstrual periods. 79% women said periods impacted their choice of clothes and the way they dress. One-third of the women said periods restricted them from attending social and personal engagements such as family functions, parties and dates.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
समाचार स्वस्थ भारत अभियान

पर्यावरण संरक्षण में चिकित्सकों की अहम भूमिका हैः डॉ. हर्षवर्धन

स्वस्थ भारत अभियान की राष्ट्रीय कार्यकारिणी सदस्या डॉ. ममता ठाकुर को इस कार्यक्रम में डॉ.हर्षवर्धन ने पौधा भेंट किया। डॉ ममता ठाकुर गायनोलॉजिकल फोरम की ओर से अपने क्षेत्र में लोगों को पहले से ही ऑक्सीजन उत्सर्जित करने वाले पौधों को लगाने के लिए जागरूक कर रही हैं। डॉ ठाकुर ने बताया कि हर्षवर्धन जी के ग्रीन इंडिया मुहिम को हम सभी आगे बढ़ाने में सहयोग करेंगे।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें