फार्मा सेक्टर समाचार

फार्मासिस्टों की भूख हड़ताल दूसरे दिन भी जारी, मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मिलकर ही रखेंगे अपनी बात

लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में यूपी के फार्मासिस्टों का भूख हड़ताल लगातार दूसरे दिन भी जारी है। उनकी मांग है कि जबतक मुख्यमंत्री आकर उनसे बात नहीं करते वे हड़ताल जारी रखेंगे। इस बावत फार्मासिस्ट फाउंडेशन के अमीत श्रीवास्तव ने कहा कि अब फार्मासिस्ट जाग गए हैं। देश की आम जनता के स्वास्थ्य के साथ हो रहे खिलवाड़ को हम सहन नहीं कर सकते हैं। वहीं जाने-माने फार्मा एक्टिविस्ट विनय कुमार भारती ने कहा कि अब समय आ गया है कि सभी फार्मासिस्ट एकजूट होकर मुद्दे की ल़ड़ाई लड़ें।

फार्मा सेक्टर

पीसीआई प्रेसिडेंट बी सुरेश और आंदोलनकारी फार्मासिस्टों के बीच झड़प का विडिओ हुवा वायरल

बिगत 17 अगस्त 2015 को दिल्ली जंतर मंतर पर धरना दे रहे देश भर के फार्मा एक्टिविस्ट अचानक उठे और फार्मेसी काउंसिल ऑफ़ इंडिया के दफ्तर को कब्जे में में ले लिए । आंदोलनकारी फार्मासिस्टों और पीसीआई प्रेसिडेंट बी सुरेश की बीच तीखी बहस हुई ! इस विवादित विडिओ को झारखण्ड के फार्मा एक्टिविस्ट ने अपने फेसबुक पर डाल दिया है पूरा विडिओ देखने के लिए क्लिक करें ।

फार्मा सेक्टर

फार्मासिस्ट फाउंडेशन ने बनारस में निकाली जागरूकता रैली

इस समय पुरे प्रदेश में फार्मासिस्ट फाउंडेशन की टीम काफी सक्रियता से लोगों को जागरूक कर रही है । फाउंडेशन के प्रदेशाध्यक्ष अमित श्रीवास्तव ने खुद कमान सँभाल रखी है। अमित ने बताया की यूपी की सभी जनपदों में सदस्यों की जबाबदेही तय की गई है की वे एफडीए में व्याप्त भ्रस्टाचार और दवा विक्रेताओं के साथ सांठ गांठ को उजागर कर जनता के सामने रखें। अमित ने आगे बताया की हर जनपद में जन जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है। ताकि लोग दवा के दुष्प्रभाव को जान सकें और सुरक्षित रहें।

फार्मा सेक्टर

फार्मासिस्ट संगठन समेत सोशल मीडिया पर चीख रहे फार्मासिस्टों की सच्चाई

काफी दिन से चाह रहा की आंदोलनों और संगठनो समेत सोशल मीडिया पर चीख रहे फार्मासिस्टों की सच्चाई लिखूं ! यह सोच कर रुक जाता की कई दिल टूट जायेगे… रिश्ते में खटास आ जायेगी ! आज कोशिश करता हूँ की रिस्क ले ही लूँ … वैसे भी क्या फर्क पड़ेगा… जिन्हे बुरा लगे ज्यादा से ज्यादा गालियां देंगे … उससे ज्यादा कुछ कर भी तो नहीं सकते … !!

फार्मा सेक्टर

यूपी में एक बार फिर केमिस्ट और फार्मासिस्ट आमने सामने

यूपी में एक बार फिर केमिस्ट और फार्मासिस्ट आमने सामने हो गए है। मामला यूपी में बरसों से चल रहे गैर क़ानूनी दवा दुकानो और अवैध ड्रग लाइसेंस प्रकरण से जुड़ा है। हाल में ही यूपी सरकार ने ड्रग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी। जिससे पचास हज़ार से भी ज्यादा गैर क़ानूनी दवा दुकानो पर बंद होने का संकट मंडरा गया। इसे लेकर दवा कारोबारियों में हड़कंप मच गया। आनन फानन में दवा कारोबारियों ने ऑनलाइन सिस्टम का विरोध करने के साथ ही फार्मासिस्ट की अनिवार्यता ख़त्म करने की मांग कर दी। केमिस्ट संगठनों की इस मांग को लेकर सोशल मीडिया में खूब बबाल मचा और फार्मासिस्टों ने केमिस्ट संगठनो के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। अलग अलग संगठन चला रहे फार्मासिस्ट एकजुट हो गए। वहीँ फार्मासिस्टों द्वारा की जा रही इस घेराबंदी से ड्रग डिपार्टमेंट के हाथ पाँव फूल गए है। डिपार्टमेंट हालात से निपटने की तैयारी कर रहा है।

फार्मा सेक्टर

मध्य प्रदेश स्टेट फार्मेसी काउंसिल का घेराव 8 जनवरी को …

मध्य प्रदेश फार्मेसी काउंसिल और औषधी नियंत्रण प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार से तंग आकर मध्य प्रदेश के फार्मासिस्टों ने खुली जंग छेड़ दी है। संगठन के सदस्य विभिन्न जिलों में लगातार प्रदर्शन कर रहे है। संगठन के सदस्यों ने सरकार को चेतावनी दी है अगर फार्मेसी काउंसिल अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आती है। तो वे फार्मेसी काउंसिल के साथ औषधी नियंत्रण विभाग में ताले जड़ देंगे। संगठन के अध्यक्ष अम्बर चौहान ने दिनांक 8 जनवरी को स्टेट फार्मेसी काउंसिल का घेराव करने का एलान किया है! अम्बर ने बताया की रैली दोपहर 12 बजे बोर्ड ऑफिस, भोपाल से निकलेगी। अम्बर ने प्रदेश के फार्मासिस्टों को बड़ी संख्या में प्रदर्शन में शामिल होने को कहा है।

फार्मा सेक्टर

ऑनलाइन दवा बेचनेवाले ई कॉमर्स कंपनियों को तुरंत बंद करने का फरमान

ऑनलाइन फार्मेसी पर सबसे पहले विरोध महाराष्ट्र रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट संगठन ने मुंबई में शुरू किया फिर धीरे धीरे पुरे देश भर में जोर शोर से बिरोध शुरू हो गया ! यह तस्बिर महाराष्ट्र ड्रग कंट्रोल एडमिनिस्ट्रेशन के बाहर प्रदर्शन कर रहे फार्मासिस्टों की है यहाँ एफडीए मुख्यालय, बांद्रा में एमआरपीए के सदस्यों ने 31 अगस्त 2015 को चाय वेचकर आंदोलन का आगाज़ किया था