फार्मा सेक्टर

यूपी में एक बार फिर केमिस्ट और फार्मासिस्ट आमने सामने

यूपी में एक बार फिर केमिस्ट और फार्मासिस्ट आमने सामने हो गए है। मामला यूपी में बरसों से चल रहे गैर क़ानूनी दवा दुकानो और अवैध ड्रग लाइसेंस प्रकरण से जुड़ा है। हाल में ही यूपी सरकार ने ड्रग लाइसेंस बनाने की प्रक्रिया ऑनलाइन कर दी। जिससे पचास हज़ार से भी ज्यादा गैर क़ानूनी दवा दुकानो पर बंद होने का संकट मंडरा गया। इसे लेकर दवा कारोबारियों में हड़कंप मच गया। आनन फानन में दवा कारोबारियों ने ऑनलाइन सिस्टम का विरोध करने के साथ ही फार्मासिस्ट की अनिवार्यता ख़त्म करने की मांग कर दी। केमिस्ट संगठनों की इस मांग को लेकर सोशल मीडिया में खूब बबाल मचा और फार्मासिस्टों ने केमिस्ट संगठनो के खिलाफ मोर्चा खोल दिया। अलग अलग संगठन चला रहे फार्मासिस्ट एकजुट हो गए। वहीँ फार्मासिस्टों द्वारा की जा रही इस घेराबंदी से ड्रग डिपार्टमेंट के हाथ पाँव फूल गए है। डिपार्टमेंट हालात से निपटने की तैयारी कर रहा है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
फार्मा सेक्टर

मध्य प्रदेश स्टेट फार्मेसी काउंसिल का घेराव 8 जनवरी को …

मध्य प्रदेश फार्मेसी काउंसिल और औषधी नियंत्रण प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार से तंग आकर मध्य प्रदेश के फार्मासिस्टों ने खुली जंग छेड़ दी है। संगठन के सदस्य विभिन्न जिलों में लगातार प्रदर्शन कर रहे है। संगठन के सदस्यों ने सरकार को चेतावनी दी है अगर फार्मेसी काउंसिल अपनी हरकतों से बाज़ नहीं आती है। तो वे फार्मेसी काउंसिल के साथ औषधी नियंत्रण विभाग में ताले जड़ देंगे। संगठन के अध्यक्ष अम्बर चौहान ने दिनांक 8 जनवरी को स्टेट फार्मेसी काउंसिल का घेराव करने का एलान किया है! अम्बर ने बताया की रैली दोपहर 12 बजे बोर्ड ऑफिस, भोपाल से निकलेगी। अम्बर ने प्रदेश के फार्मासिस्टों को बड़ी संख्या में प्रदर्शन में शामिल होने को कहा है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
फार्मा सेक्टर

ऑनलाइन दवा बेचनेवाले ई कॉमर्स कंपनियों को तुरंत बंद करने का फरमान

ऑनलाइन फार्मेसी पर सबसे पहले विरोध महाराष्ट्र रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट संगठन ने मुंबई में शुरू किया फिर धीरे धीरे पुरे देश भर में जोर शोर से बिरोध शुरू हो गया ! यह तस्बिर महाराष्ट्र ड्रग कंट्रोल एडमिनिस्ट्रेशन के बाहर प्रदर्शन कर रहे फार्मासिस्टों की है यहाँ एफडीए मुख्यालय, बांद्रा में एमआरपीए के सदस्यों ने 31 अगस्त 2015 को चाय वेचकर आंदोलन का आगाज़ किया था

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें