विविध समाचार

आदर्श ग्राम नागेपुर में धूमधाम से मनाया गया मासिक महोत्सव 

आदर्श ग्राम नागेपुर के लोक समिति आश्रम में विश्व माहवारी स्वच्छता दिवस पर ‘मासिक महोत्सव’ का आयोजन किया गया। कार्यक्रम के अंतर्गत माहवारी पर केंद्रित परिचर्चा, कविता पाठ, पोस्टर प्रदर्शनी, अंताक्षरी प्रतियोगिता एवं अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया।कार्यक्रम की शुरुआत किशोरियों के साथ ग्रुप एक्टिविटी से की गई, जिसमें किशोरियों ने माहवारी पर अपनी समझ और अनुभवों को साझा किया। किशोरियों के अनुभवों के आधार पर मुहीम संस्था की स्वाती सिंह ने उन्हें माहवारी से स्वच्छता, स्वास्थ्य और भ्रांतियों जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियों के बारे में जागरूक किया। साथ ही, किशोरियों को माहवारी प्रबंधन के लिए मौजूद विकल्पों के बारे में जानकारी देते हुए, माहवारी केंद्रित जानकारी पत्र ‘स्वस्थ पन्ना’ वितरित किया गया।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
मन की बात विविध

साक्षात्कारः पीरियड का मुद्दा सिर्फ ‘दाग़’ और ‘दर्द’ तक सीमित नहीं है: स्वाती सिंह

स्वस्थ समाज की कल्पना हम एक स्वस्थ माहौल के बिना नहीं कर सकते हैं, जिसकी शुरुआत हमें आज से करनी होगी| पीरियड के मुद्दे पर देखा जाए तो आज भी अधिकाँश लड़कियां पहली बार पीरियड आने पर डर जाती है, क्योंकि इसके बारे में उन्हें पहले कुछ भी नहीं बताया जाता| ऐसे में ज़रूरी है कि किशोरियों को पीरियड के बारे पहले से प्रशिक्षित किया जाए, जिससे उनके पहले पीरियड का अनुभव उनके लिए डरावना न हो।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध समाचार

Menstrual Hygiene Day Period Fest’ 18 & Pad Yatra : All days are good days!

Post this, the Sachhi Saheli team escorted the crowd and gathered them for the pad yatra. The crowd bearing placards and banners with slogans such as “My Period My Proud”, “Break the Bloody Taboo” marched in unison around the inner circle in Connaught Place. The rally was later joined by day’s Chief guest Hon’ble Dy. Chief Minister Mr. Manish Sisodia as well.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध समाचार

The microneedle-based system can take the pain away from vaccinations

The new device, according to the researchers, would result in improved stability of antigen after coating on to zeinmicroneedles. The research team used micro molding, a fabrication technique used for replicating microstructures to cast cone-shaped zein microneedles. Microneedles, unlike a syringe needle, do not cause many injuries as they need a minimal invasion of the skin.

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
फार्मा सेक्टर विविध समाचार

भारतीय प्रधानमंत्री जनऔषधि परियोजना के तहत इस सप्ताह 24 केन्द्र खुले

देश की जनता को सस्ती दवाईयां उपलब्ध कराने की नियत से शुरू हुई जनऔषधि केन्द्रों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है। इस सप्ताह 11 राज्यों में कुल 24 और केन्द्र खुले हैं।  प्रधानमंत्री जनऔषधि परियोजना ने ट्वीटर पर जो आंकड़ा दिया है उसके अनुसार आंध्रप्रदेश, बिहार में दो-दो, हरियाणा, गोवा,जम्मु कश्मीर, महाराष्ट्र एवं उड़ीसा में एक-एक, उत्तर प्रदेश एवं मध्यप्रदेश में तीन-तीन, कर्नाटक में चार एवं गुजरात में 5 नए केन्द्र खुले हैं। 21 मई 2018 तक देश में 3571 केन्द्र खुल चुके थे।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
चिंतन मन की बात विविध

 विश्व माहवारी स्वच्छता दिवस पर विशेष: माहवारी है ईश्वर की सौगात , इस पर करें हम खुलकर बात

नेशनल फैमिली हेल्थ सर्वे (NFHS) की रिपोर्ट आई है जिसके आंकड़े चौंकाने वाले हैं। देश में आज भी 62 प्रतिशत लड़कियां और महिलाएं पीरियड्स के दौरान कपड़े का इस्तेमाल करती हैं। इस सर्वे में 15 से 24 आयु वर्ग की महिलाओं को शामिल किया गया था। कई राज्यों में तो 80 प्रतिशत से ज्यादा महिलाएं पीरियड्स के दौरान कपड़े का इस्तेमाल करती हैं। 2015-16 सर्वे में खुलासा हुआ कि देश में महिलाएं आज भी पीरियड्स के लिए कपड़े का इस्तेमाल करती हैं। बिहार में 82 प्रतिशत महिलाएं जहां कपड़े का इस्तेमाल करती हैं, वहीं उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ में भी हालात कुछ ऐसे ही हैं। इन दोनों प्रदेशों में 81 प्रतिशत महिलाएं कपड़ा इस्तेमाल करती हैं। सर्वे ने पाया कि 42 प्रतिशत महिलाएं सैनिटरी नैपकिन का इस्तेमाल करतीहैं। वहीं 16 प्रतिशत महिलाएं लोकल तौर पर बनाए गए नैपकिन का इस्तेमाल करती हैं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
विविध समाचार

 अक्षय कुमार ने ‘स्वच्छ भारत’ के लिए विज्ञापन अभियान लांच किया

पेयजल एवं स्वच्छता मंत्रालय में सचिव श्री परमेश्‍वरन अय्यर ने श्री अक्षय कुमार द्वारा स्वच्छ भारत मिशन में किए गए उल्‍लेखनीय योगदान का जिक्र किया। उन्होंने कहा कि अपनी फिल्म  ‘टॉयलेट एक प्रेम कथा’, जो पूरे देश में ग्रामीण एवं शहरी लोगों द्वारा देखी और खूब सराही गई, से लेकर स्वच्छ भारत मिशन के लिए दोहरे गड्ढों वाले शौचालय के विज्ञापन अभियान में अपनी भागीदारी तक के जरिए श्री कुमार देश में काफी जोर पकड़ रहे स्वच्छता आंदोलन के एक मजबूत समर्थक रहे हैं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
काम की बातें विविध

केन्द्रीय उच्च स्तरीय टीम: निपाह वायरस से फैला रोग प्रकोप नहीं, बल्कि मात्र स्थानीय स्तर का संक्रमण है 

केन्द्रीय टीम ने अस्पतालों में भर्ती मरीजों की स्थिति की समीक्षा करने और रोग के रोकथाम के लिए आगे की कार्रवाई पर विचार-विमर्श के लिए आज जिलाधीशों और अस्पताल के चिकित्सा तथा परा-चिकित्सा कर्मचारियों के साथ बैठक की। रोग नियंत्रण के लिए अब तक किए गए प्रयास सफल रहे हैं, क्योंकि नए क्षेत्रों में यह बीमारी नहीं फैली है। वायरस के सम्पर्क में आने वाले लोगों की पहचान करने की रणनीति भी सफल रही है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
SBA विशेष फार्मा सेक्टर स्वस्थ भारत अभियान

स्वस्थ भारत ने मनाया अपना तीसरा स्थापना दिवस, गांधी का स्वास्थ्य चिंतन व जनऔषधि की अवधारणा विषय पर हुआ राष्ट्रीय परिसंवाद

अंतरराष्ट्रीय मानक के हिसाब से पेटेंट फ्री मेडिसिन को जेनरिक दवा कहा जाता है। लेकिन भारत में साल्ट के नाम से बिकने वाली दवा को सामान्यतया जेनरिक माना जाता रहा है। वैसे बाजार में जेनरिक दवाइयों को ‘ऐज अ ब्रांड’ बेचने का भी चलन है, जिसे आम बोलचाल में जेनरिक ब्रांडेड कहा जाता है। लेकिन ‘प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना’ के अंतर्गत खुलने वाली सभी दवा दुकानों पर हम लोग विशुद्ध जेनरिक दवा रखते हैं। यहां पर स्ट्रीप पर साल्ट अर्थात रसायन का ही नाम लिखा होता है’ अपने लक्ष्य को रेखांकित करते हुए उन्होंने कहा कि,’बीपीपीआई का गठन 2008 में हुआ था। तब से लेकर 2014 तक उतनी सफलता नहीं मिली जितनी मिलनी चाहिए थी। लेकिन 2014 से सरकार ने इस दिशा में तेजी से काम किया है और आज हम 3350 से ज्यादा जनऔषधि केन्द्र खोलने में सफल रहे हैं। 2018-19 में जनऔषधि केन्द्रों की संख्या 4000 तक ले जाने का हमारा लक्ष्य है।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
फार्मा सेक्टर मन की बात स्वस्थ भारत अभियान

देश के हर पंचायत में जरूरी है जनऔषधि केन्द्र

यह हर्ष का विषय है कि प्रधानमंत्री जनऔषधि परियोजना के अंतर्गत लोगों को सस्ती दवाइयां उपलब्ध कराने का काम इधर के वर्षों में तेजी से हुआ है। विपल्व चटर्जी के मार्गदर्शन में काम को गति मिली। हम आशा करते हैं कि विपल्व जी देश के प्रत्येक पंचायत में एक जनऔषधि केन्द्र खोलने का संकल्प लेंगे। स्वस्थ भारत उनके इस नेक काम में हर संभव मदद करने की कोशिश करेगा।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें