समाचार

ओड़िशा के जंगलों में है आयुर्वेद का खज़ाना – चांदमनी

जंगली औषधियों को प्रदर्शित करती चाँदमनी
जंगली औषधियों को प्रदर्शित करती चाँदमनी

सुंदरगढ़/ ओडिशा:

चांदमनी सांडिल एक सोशल एक्टिविस्ट है । वे जंगलों और पहाड़ी पर बसे आदिवासी ग्रामीणो के बीच जागरूकता कार्यक्रम चला रही है । चांदमनी को जंगलों में पाए जाने वाली औषधिओं का अच्छा ज्ञान है । वे कहती है की ओड़िशा के जंगलों व पहाड़ों में कई दुर्लभ जड़ी बूटियों का खजाना है। जिससे जटिल से जटिल रोगों का निदान संभव है । चांदमनी ने कहा की आज भी ओडिशा के सुदूरवर्ती पहाड़ी छेत्रों में स्वस्थ सुविधा के नाम पर कुछ भी नहीं । ग्रामीणो को इलाज़ के लिए कई मील चलकर जाना होता है । यहाँ ज्यादातर आदिवासी समाज के लोग आज भी जंगलों में मिलने वाली पेड़ पौधे फूल पत्ती छाल इत्यादि से ही अपना इलाज़ कर लेते है । चांदमनी ने स्वस्थ भारत डॉट इन को बताया की  ओडिशा में आयुर्वेद के विकास की काफी संभावनाए है । अगर सरकार चाहे तो ओडिशा को आयुर्वेद  हब के रूप में विकसित कर सकती है । जिससे आयुर्वेद का विकास भी हो सकेगा और यहाँ के आदिवासियों को रोजगार से भी जोड़ा जा सकेगा ।

 

स्वस्थ जगत से जुडी तमाम खबरों के लिए स्वस्थ भारत अभियान के पेज को लाइक करें !

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
Vinay Kumar Bharti
विनय कुमार भारती देश के जाने में आरटीआई एक्टिविस्ट हैं. फार्मा सेक्टर में व्याप्त भ्रष्टाचार के खिलाफ स्वस्थ भारत अभियान के साथ मिलकर कार्य कर रहे हैं। फार्मासिस्टों के अधिकार की लड़ाई को आगे बढ़ाने हेतु इन दिनों वे दिल्ली में प्रवास कर रहे हैं। संपर्कःvinayk@zindagizindabad.com

One thought on “ओड़िशा के जंगलों में है आयुर्वेद का खज़ाना – चांदमनी”

प्रातिक्रिया दे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.