दिल्ली चुनाव में स्वास्थ्य होगा मुख्य मुद्दा!

आआपा ने बनाया स्वास्थ्य को चुनावी मुद्दा

दिल्ली की दूसरी सबसे बड़ी पार्टी आम आदमी पार्टी ने दिल्ली वालों के सामने अपनी स्वास्थ्य योजनाओं का पिटारा खोला है। पिछले दिनों इस बावत अपनी नीति का खुलासा करते हुए आआपा ने कहा है कि यदि उसकी सरकार बनती है तो वो दिल्ली वासियों को अस्पतालों में 30,000 नए विस्तर की व्यवस्था करेगी।

अरविंद केजरीवाल, संयोजक आम आदमी पार्टी

अरविंद केजरीवाल, संयोजक आम आदमी पार्टी

 

नीचे आम आदमी पार्टी द्वारा भेजे गए उस प्रेस रिलीज को साझा कर रहे हैं।

अस्पतालों में 30,000 नए बिस्तरों , 500 नए स्कूलों और 20 नए कॉलेज शुरू करने का आम आदमी पार्टी का वादा
दिल्ली डायलॉग श्रृंखला के तहत आम आदमी पार्टी ने शिक्षा व स्वास्थ्य से जुड़े पार्टी की नीतिगत ढ़ांचे का खुलासा किया। एक प्रेस कांफ्रेस में आम आदमी पार्टी के नेता आशीष खेतान ने बताया कि दिल्ली में सत्ता में आने के बाद आम आदमी पार्टी की सरकार शिक्षा व स्वास्थ्य को सर्वोच्च प्राथमिकता देते हुए इन दोनों क्षेत्रों में बेहतर बदलाव लाएगी।

आम आदमी पार्टी ने शिक्षा व स्वास्थ्य के क्षेत्र में अपनी आगामी योजनाओं का खुलासा ऐसे वक्त में किया जब भाजपा सरकार ने स्वास्थ्य संबंधी खर्चे में दस फीसदी की कटौती की है।

आम आदमी पार्टी घर-घर जाकर स्वास्थ्य व शिक्षा के क्षेत्र में जरूरी बदलाव के लिए लोगों से राय लेगी। 10 जनवरी 2015 से शुरू हो रहे इस अभियान के तहत अगले 10 दिनों में आम आदमा पार्टी के नेता 16 विधानसभा क्षेत्रों- ग्रेटर कैलाश, मालवीय नगर, जंगपुरा, रिठाला, शालीमार बाग, मॉडल टाउन, हरि नगर, तिलक नगर, जनकपुरी, मटियाला, राजिंदर नगर, कृष्णा नगर, कोंडली, उत्तम नगर, कस्तूरबा नगर और आरके पुरम में जाकर आम लोगों से इन दोनों मुद्दे पर संवाद करेंगे। इस अभियान में पार्टी वरिष्ठ नेता आनंद कुमार, योगेंद्र यादव, आशीष खेतान, अतिशि मर्लेना, अजीत झा और सत्येंद्र जैन शामिल होंगे। ये नेता स्थानीय आरडब्ल्यू एसोसिएशन के पदाधिकारियों से स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित मुद्दों पर उनकी प्रतिक्रिया लेंगे। इन बैठकों के अलावा, सभी 70 विधानसभा क्षेत्रों में पार्टी के उम्मीदवार आरडब्ल्यूए से  स्वास्थ्य और शिक्षा से संबंधित बातचीत का भी आयोजन करेंगे।

 

आम आदमी पार्टी की स्वास्थ्य संबंधी नीति निम्न होगी:-

  • स्वास्थ्य सेवा पर कुल बजटीय आवंटन और उसपर खर्च होने वाली राशि 2,700 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 4000 करोड़ रुपये की जाएगी।
  • डॉक्टरों के 4000 और सहयोगी स्टाफ के 15,000 रिक्त पद भरे जाएंगे। ठेके व अस्थायी नियुक्तियों का प्रावधान समाप्त कर दिया जाएगा।
  • शिशुओं व युवाओं बच्चों के लिए रोग प्रतिरक्षक (Immunization) शत प्रतिशत निशुल्क
  • दिल्ली में फिलहाल 300 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र है। आम आदमी पार्टी 900 नए प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र खोलेगी। इस तरह दिल्ली में 1200 प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों के बनाने से द्वितीयक और तृतीयक अस्पतालों पर भार कम हो जाएगा।
  • द्वितीयक और तृतीयक स्तर के अस्पतालों में बिस्तरों की संख्या 10,600 से बढ़ाकर 40,000 की जाएगी। इसमें 4000 बिस्तर विशेष रूप से प्रसूति बेड भी होगा। इस तरह आम आदमी पार्टी दिल्ली में 100% संस्थागत प्रसव का प्रावधान सुनिश्चित करेगी।
  • आम आदमी पार्टी दिल्ली के प्रत्येक अस्पताल में नेत्र और दंत चिकित्सा देखभाल केन्द्रों की स्थापना भी करेगी।
  • सभी अस्पतालों में 24 घंटे की हेल्पलाइन की सुविधा होगी। हेल्पलाइन नंबर संचालन के लिए योग्य कर्मचारियों को रखा जाएगा ।
  • दीर्घकालिक स्वास्थ्य सेवा के प्रावधान और स्वास्थ्य सेवाओं को कुशलता पूर्वक सुनिश्चित करने के लिए दिल्ली के सभी निवासियों के लिए स्वास्थ्य कार्ड जारी किया जाएगा।
  • भ्रष्टाचार खत्म करने के लिए दवाइयों और उपकरणों की खरीद प्रक्रिया को केंद्रीकृत किया जाएगा।
  • सभी अस्पतालों को सौ फीसदी कंप्यूटरीकृत किया जाएगा। इससे जुड़ी एक पायलट परियोजना पहले से ही LNJP अस्पताल में एएपी सरकार द्वारा शुरू की जा चुकी है।
  • नि: शुल्क एम्बुलेंस सेवा की सुविधा सभी अस्पतालों में उपलब्ध होगी। यहां तक की निजी अस्पतालों में भी यह सुविधा होगी। पिछली फरवरी में आम आदमी पार्टी का सरकार ने आईसीयू सहित 100 एंबुलेंस का आदेश दिया था ।
  • घर से अस्पताल और अस्पताल से श्मशान के लिए नि: शुल्क शव वाहन सेवा।
  • जेनेरिक दवाओं के लिए अधिक दुकाने खोली जाएंगी।
  • ऑफिस जाने वाले मरीजों की सुविधाओं का ध्यान रखते बाह्य मरीज अस्पतालों (ओपीडी) के कार्य अवधि में बढ़ोतरी होगी। सभी अस्पतालों में ऑनलाइन अपव्यांटमंट की सुविधा भी होगी।
  • दिल्ली के अस्पतालों में आपातकालीन सुविधाओं में विस्तार किया जाएगा। सभी अस्पतालों में इमरजेंसी बिस्तरों की संख्या में 10 से 40 फीसदी की बढ़ोतरी होगी।
  • 500 सस्ती दवा दुकानों पर वरिष्ठ नागरिकों के लिए नि: शुल्क दवाओं की सुविधा होगी।
  • 38 अस्पतालों में diagnostic centers है। इन केंद्रों की क्षमता बढ़ाई जाएगी और 10 नए diagnostic centers खोले जाएंगे।

 

 

 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *