दवा रिएक्शन शिकायत न.

दवा रिएक्शन की शिकायत के लिए टोलफ्री न.

Ashutosh Kumar Singh 

दवा रिएक्शन शिकायत न.

यदि आपको किसी दवा से रिएक्शन हुआ हो तो जरूर इस न. पर फोन करें…

दवाइयों आ अंधाधुध प्रयोग ने एक नयी समस्या खड़ी कर दी है। जिस केमिकल का प्रयोग हम खुद को ठीक करने के लिए करते हैं, कई बार वह केमिकल हमारे शरीर पर विपरित असर करता है। जिसे आम तौर पर हमलोग दवा-रिएक्शन के नाम से जानते हैं। लेकिन बहुत कम ही लोग जानते हैं कि यदि कोई दवा रीएक्शन करता है तो उसके लिए कहा पर अपनी शिकायत दर्ज करवाई जाए। इसके लिए स्वस्थ भारत अभियान ने बात की इंडियन फार्माकॉपिया कमिशन के सूचना प्रभाग अधिकारी से।

आपके शिकायत के लिए टोल फ्री न.
अब अगर किसी दवाई को खाने के बाद आपके शरीर में कोई साइड इफेक्ट होता है, या आपको उसकी क्वालिटी पर शक है, तो इसकी शिकायत सीधे एक टोल फ्री नंबर पर कर सकते हैं। स्वास्थ मंत्रालय ने इसके लिए 18001803024 नंबर जारी किया है। 11 अक्टूर, 2013 से शुरू यह हेल्पलाइन न. लगातार कार्य कर रहा है। इस पूरे काम को फार्माकोविजिलेंस प्रोग्राम ऑफ इंडिया(पीवीपीआई) के तहत किया जा रहा है। इसके लिए आपको एक फॉर्म (यहां क्लिक करें आपको फार्म मिल जायेगा) भरकर भेजना होगा।
इस तरह शिकायत पर होगी कार्रवाई – शिकायत मिलते दी एडवर्स ड्रग रिएक्शन मॉनिटरिंग सेंटर (ADRMC) अंतर्राष्ट्रीय मानदंडों के आधार पर दवाइयों को परखेगा। मॉनिटरिंग सेंटर की रिपोर्ट नेश्नल कोऑर्डिनेटिग सेंटर को भेजी जाएगी जो दवाइयों से होने वाली परेशानियों का डाटाबेस तैयार करता है। यदि आपको देखना है कि आपके क्षेत्र में आपकी सुनावाई कौन करेगा तो आप Contact details of AMCs under PvPI पर क्लिक करें। सरकार इस कोशिश में है कि दवाई की दुकानों, अस्पतालों और निजी मेडिकल क्लिनिकों पर भी यह टोल फ्री नंबर मौजूद हो। आंकड़े बताते हैं कि साल 2011 से  अबतक करीब 1 लाख 10 हजार ड्रग रिएक्शन से जुड़े मामले सामने आए हैं।

Contact details of AMCs under PvPI (पीडीएफ)
AMCsUnderPvPI

कैसे फाइल करें एडीआर फार्म

 

2 replies
  1. देवेन्द्र शर्मा श्रीमाधोपुर
    देवेन्द्र शर्मा श्रीमाधोपुर says:

    दवा के दुष्प्रभाव की जानकारी देने के लिए ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया द्वारा प्रारंभ टोल फ्री हेल्पलाइन स्वास्थ्य जागरूकता के क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली साबित होगी..!!!
    नकली अथवा सबस्टेंडर्ड दवा और उन्हें बनाने वाली कंपनियों पर लगाम लगाने के लिए इस नंबर पर दी गई सूचना बहुत महत्वपूर्ण होगी..!! इसे स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता का अभाव ही कहा जाएगा कि वर्ष 2013 से शुरू यह सेवा अभी तक भी अधिकांश लोगों की जानकारी में नहीं हैं..?
    स्वस्थ भारत अभियान द्वारा नए सिरे से इसका प्रचार-प्रसार स्वास्थ्य जागरूकता की दिशा में बहुत बड़ा कदम साबित होगा |

    Reply

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *