• Home
  • समाचार
  • 7 वें वेतन आयोग के नाइंसाफी के खिलाफ 28 दिसंबर को संसद पर हल्ला बोलेंगे फार्मासिस्ट
समाचार

7 वें वेतन आयोग के नाइंसाफी के खिलाफ 28 दिसंबर को संसद पर हल्ला बोलेंगे फार्मासिस्ट

संसद का घेराव करेंगे फार्मासिस्ट
संसद का घेराव करेंगे फार्मासिस्ट

फेडरेशन के सचिव उमर फारूक ने स्वस्थ भारत डॉट इन को बताया कि सातवें वेतन आयोग ने फार्मासिस्टों की पूरी तरह उपेक्षा की है, आयोग ने सरकार द्वारा संशोधित नए भर्ती नियम को दरकिनार करते हुवे छठे वेतन आयोग द्वारा किए गए अन्यायपूर्ण सिफ़ारिशो को ही आधार बनाकर एक बार फिर देश के फार्मासिस्टों को न्याय संगत वेतनमान देने में असफसल रही है ! फारूक ने आगे बताया की स्वास्थ्य सेवाओं की रीढ़ कहे जाने वाले फार्मासिस्टों को पूरे सेवाकाल में एक भी प्रमोशन नही है। हम जिस पद पर नियुक्त होते हैं उसी पद पर रिटायर भी हो जाते हैं ।

नई दिल्ली / 26.12.2015
बर्षों से अच्छे दिनों के इंतज़ार कर रहे देश के फार्मासिस्टों को बड़ा झटका लगा है। 7 वें वेतन आयोग ने फार्मासिस्टों की उपेक्षा की है। इस उपेक्षा के खिलाफ पूरे देश के फार्मासिस्ट एकजूट होने लगे हैं। फेडरेशन ऑफ़ इंडियन फार्मासिस्ट आर्गेनाईजेशन ने 7वें सीपीसी की सिफारिशों को फार्मासिस्ट समुदाय के साथ धोखा बताया है। 7वें सीपीसी के खिलाफ देश भर के फार्मासिस्टों में जबरजस्त उबाल है। उक्त विषय को लेकर 28 दिसंबर को जंतर मंतर पर प्रदर्शन और संसद मांर्च का एलान फेडरेशन ने किया है। खबरों के मुताबिक जंतर मंतर पर होने वाले धरने को सफल बनाने के लिए देश भर से फार्मासिस्टों का जत्था दिल्ली पहुंच रहा है।
इस बीच कर्मचारी फार्मासिस्ट फार्मासिस्ट संगठनों के साथ बेरोज़गार फार्मासिस्ट संगठनों ने भी धरने का समर्थन दिया हैं। फेडरेशन के सचिव उमर फारूक ने कहा कि सरकार ने हमेशा ही फार्मासिस्ट को हाशिए पर रखा है, एक तरफ तो पीसीआई फार्मासिस्ट को प्रोफेशनल होने का दावा करती है और सरकारी तंत्र में कदम-कदम पर फार्मासिस्ट की उपेक्षा की जाती है। उन्होंने दो टूक कहा कि फार्मासिस्ट विरोधी नीतिओं को बर्दास्त नहीं किया जाएगा।
प्रदर्शन में शामिल होने वालों में इंडियन फार्मासिस्ट एसोसिएशन, CGHS, PEA- Delhi Govt, PGWA, IHPA,  UP  डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन, इंडियन रेलवे फार्मासिस्ट एसोसिएशन, उत्तराखंड डिप्लोमा फार्मासिस्ट एसोसिएशन, हरियाणा स्टेट फार्मासिस्ट एसोसिएशन, सिंहभूम फार्मासिस्ट एसोसिएशन, झारखंड, छत्तीसगढ़ फार्मा एसोसिएशन, राजस्थान स्टेट फार्मासिस्ट एसोसिएशन, तमिल फार्मासिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन, महाराष्ट्रा रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट एसोसिएशन, फार्मासिस्ट फाउंडेशन, उत्तरप्रदेश,  आरएमएल हॉस्पिटल, सफदरगंज हॉस्पिटल, लेडी हार्डिंग हॉस्पिटल, एम्स समेत कई अस्पतालों के हज़ारों फार्मासिस्ट एक साथ जंतर मंतर कूच करेंगे।
धरने को सफल बनाने के लिए फेडरेशन ऑफ़ इंडियन फार्मासिस्ट आर्गेनाईजेशन के महासचिव एम.एस.आर्या और सचिव उमर फारूक ने अपील की है।
 
स्वास्थ्य संबंधी ख़बरों के लिए स्वस्थ भारत अभियान के पेज को लाइक कर दें ।

Related posts

भ्रष्ट है राजस्थान का ड्रग डिपार्टमेंट – सर्वेश्वर शर्मा

Vinay Kumar Bharti

अवैध दवा दुकानों का पता लगायेंगे मेडिकल रिप्रेजेंटेटिव

Vinay Kumar Bharti

दवा कंपनियों की मनमानी पर नकेल, 325 खिचड़ी दवाइयों पर प्रतिबंध

1 comment

DRx.Manmohan Singh December 28, 2015 at 11:53 am

My hatts off for Vinay ji, we are always with you.

Reply

Leave a Comment

Login

X

Register