• Home
  • समाचार
  • भारतीय सेना ने एमबीबीएस अभ्यर्थियों से आवेदन मांगे
समाचार

भारतीय सेना ने एमबीबीएस अभ्यर्थियों से आवेदन मांगे

army-doctor-ARTICLEभारतीय सेना ने भारत के उन पुरुष और महिला एमबीबीएस अ‍भ्‍यर्थियों से आवेदन मांगे हैं जिन्‍होंने एमबीबीएस पाठ्यक्रम पहले या दूसरे प्रयास में सफलतापूर्वक पास कर लिया हों और या तो इंटर्नशिप कर रहे हों या कर चुके हों। सफल अभ्‍यर्थियों को सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवा में शॉट सिर्वस क‍मीशन में नियुक्‍त किया जाएगा। सशस्‍त्र बल चिकित्‍सा सेवा देश के युवाओं को बेहतरीन और रोमांचक करियर प्रदान करता है। सेवा काल के दौरान उन्‍हें देश के विभिन्‍न भागों और परिस्थितियों में काम करने का अवसर मिलता है।
सेना की सेवा शर्तों के अनुसार अभ्‍यर्थियों को भारतीय चिकित्‍सा परिषद अधिनियम, 1956 की प्रथम/ द्वितीय अनुसूची या तीसरे अनुसूची के भाग दो में उल्लिखित योग्‍यता प्राप्‍त होनी चाहिए। अभ्‍यर्थी को किसी भी राज्‍य के चिकित्‍सा परिषद या भारतीय चिकित्‍सा परिषद में पंजीकृत होना चाहिए। एमडी/एमएस/एमसीएच/डीएम/डीएनबी/डीएम/डीएलओ/डीओएमएस/डीए के स्‍नात्कोत्‍तर पाठ्यक्रम पूरा करने वाले अभ्‍यर्थी भी आवेदन कर सकते हैं। जिन अभ्‍यर्थियों ने 31 मार्च, 2016 तक या उसके पहले इंटर्नशिप पूरी कर ली हो या इंटर्नशिप कर रहे हों, केवल वे ही योग्‍य माने जाएंगे। सेना ने यह भी स्‍पष्‍ट किया है कि केवल उन्‍हीं अभ्‍यर्थियों को योग्‍य माना जाएगा जो 31 दिसंबर, 2016 को 45 वर्ष से कम आयु के हों।
शॉट सर्विस कमीशन का साक्षात्‍कार पुणे में होगा। इसके संबंध में आवश्‍यक निर्देश एवं सूचना वेबसाइट www.amcsscentry.gov.in पर उपलब्‍ध है।

Related posts

यूपी के फार्मा-आंदोलन के समर्थन में आया स्वस्थ भारत अभियान, लिखा यूपी के सीएम को पत्र, फार्मासिस्टों के मांग को जल्द पूरा करने की मांग

swasthadmin

स्वस्थ भारत ने बनाया कलगी को स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज का गुडविल एंबेसडर

swasthadmin

महिलाओं से जुड़े मामलों के लिए देश की पहली आधुनिक फोरेंसिक लैब की आधारशिला चंडीगढ़ में रखी गई 

swasthadmin

Leave a Comment

Login

X

Register