• Home
  • समाचार
  • ‘स्वस्थ भारत अभियान’ के ब्रांड एम्बेसडर बने एवरेस्टर नरिन्दर सिंह
समाचार स्वस्थ भारत अभियान

‘स्वस्थ भारत अभियान’ के ब्रांड एम्बेसडर बने एवरेस्टर नरिन्दर सिंह

एवरेस्टर नरिन्दर सिंह के साथ स्वस्थ भारत अभियान के संयोजक आशुतोष कुमार सिंह
एवरेस्टर नरिन्दर सिंह के साथ स्वस्थ भारत अभियान के संयोजक आशुतोष कुमार सिंह

नई दिल्ली/ एक ओर जहां वैश्विक स्तर पर मानवीय स्वास्थ्य पर बढ़ रहे खतरे को लेकर चिंतन-मनन शुरू हो चुका है। वहीं दूसरी तरफ भारत में भी स्वास्थ्य को लेकर सरकारी-गैरसरकारी स्तर पर स्वास्थ्य-चिंतन की एक मजबूत धारा प्रस्फूटित हो रही है। देश को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने का वीणा उठाने वाली गैर सरकारी संस्था ‘स्वस्थ भारत (ट्रस्ट)’ ने ‘स्वस्थ भारत अभियान’ के लिए एवरेस्ट विजेता, साकलिस्ट व सामाजिक कार्यकर्ता नरिन्दर सिंह को ब्रांड एम्बेसडर मनोनित किया है। इस बावत संस्था के चेयरमैन व स्वस्थ भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक आशुतोष कुमार सिंह ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए बताया कि नरिन्दर सिंह एक जांबाज खतरों के खिलाड़ी हैं। स्वस्थ भारत अभियान के साथ उनके जुड़ने से देश के युवाओं में स्वास्थ्य के प्रति जागरूकता आयेगी। और हमारे द्वारा उठायी जा रही मांगों जैसे जेनरिक दवाइयों का उपयोग बढाना, महंगी दवाइयों की एमआरपी कम करना आदि पर विषयों पर सरकार और सक्रिय होगी। हरियाण के कुरुक्षेत्र में जन्में 35 वर्षीय नरिन्दर सिंह अब स्वस्थ भारत अभियान के साथ जुड़ कर देश की जनता को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने का फैसला लिया है। इस अभियान के साथ जुड़ने पर अपनी खुशी जाहिर करते हुए नरिन्दर सिंह ने कहा है कि बीमारियां आज वैश्विक समस्या हैं। इसके लिए हम सब को मिलकर लड़ना पड़ेगा।
एवरेस्ट पर तिरंगा लहराते नरिन्दर सिंह
एवरेस्ट पर तिरंगा लहराते नरिन्दर सिंह

गौरतलब है कि 2011 में नेपाल की तरफ से एवरेस्ट पर तिरंगा झंडा लहरा चुके नरिन्दर सिंह पर्यावरण बचाने का संदेश लेकर माउट एवरेस्ट बेस कैंप से लेकर कन्याकुमारी तक 11906 किमी की दूरी साइकिल से तय की थी। इतना ही नहीं यूरोप का सर्वोच्च शिखर माउंट एलब्रुस पर 2012 में तिरंगा फहरा चुके नरिन्दर सिंह समुद्र के नीचे साइकिल चलाने का राष्ट्रीय रिकॉर्ड भी अपने नाम कर चुके हैं। खतरों से खेलने वाले इस खिलाड़ी के नाम लिमका बुक व इंडिया बुक में 5 राष्ट्रीय रिकॉर्ड दर्ज हो चुका है।
 
 
 

Related posts

Homoeopathy pharmacies in India do not have trained pharmacy staff: Dr Kant

swasthadmin

आयुर्वेदिक डॉक्टर ही इस पद्धति पर पूर्ण भरोसा नहीं करते: प्रधानमंत्री 

swasthadmin

स्वस्थ भारत ने मनाया अपना तीसरा स्थापना दिवस, गांधी का स्वास्थ्य चिंतन व जनऔषधि की अवधारणा विषय पर हुआ राष्ट्रीय परिसंवाद

swasthadmin

Leave a Comment

Login

X

Register