फार्मा सेक्टर समाचार

फार्मासिस्टों की हुई जीत…एफडीए ने माने अनशनकारियों की मांग…दूसरे मांग को लेकर आमरण अनशन अभी भी जारी

कल यूपी विधानसभा पर धावा बोलेंगे फार्मासिस्ट

victory vinayनईदिल्ली/लखनऊ
लखनऊ के लक्ष्मण मेले में चल रहे फार्मासिस्टों भूख हड़ताल के आगे यूपी एफडीए ने समर्पण करते हुए उनकी बात मान ली है। फार्मासिस्टों की मांग थी कि यूपी फार्मेसी को ऑनलाइन किया जाए, जिसे यूपी ड्रग कंट्रोलर एक.के मल्होत्रा ने मान लिया है। झारखंड से आए फार्मा एक्टिविस्ट धर्मेन्द्र सिंह की मध्यस्थता में यह फैसला लिया गया।
इस जीत से फार्मासिस्टों में खुशी का माहौल है। इस बावत फार्मासिस्ट फाउंडेशन के अध्यक्ष अमीत श्रीवास्तव ने बताया एफडीए अधिकारियों ने आज पांचवे दिन माना कि फार्मेसी काउंसिल की गतिविधियों को ऑनलाइन किया जायेगा।
vinay apllicationपहली मांग के मिलने के बाद फार्मासिस्टों का उत्साह दूगुना हो गया है। अब अपनी दूसरी मांग को लेकर कल यानी 6 मार्च को विधानसभा का सांकेतिक घेराव करने वाले हैं। इस बावत श्री अमीत ने बताया कि लक्ष्मण मेला से हमारी टीम सीधे विधानसभा का रूख करेगी। अगर पुलिस रोकती है तो गिरफ्तारी देंगे लेकिन हर हाल में अपनी मांगों को मना के ही रहेंगे। गौरतलब है कि फार्मासिस्ट चाह रहे हैं कि एएनएम द्वारा दवाइयां बांटा जाना गैरकानूनी है। एएनएम की जगह दवाई के बांटने का मौका फार्मासिस्टों को मिलना चाहिए।
vinayइस आंदोलन में भाग लेने के लिए पूरे यूपी से फार्मासिस्टों का झूंड लखनऊ सुबह 11 बजे तक पहुंचने वाला है।
फार्मासिस्टों की पहली जीत पर स्वस्थ भारत अभियान से जुड़े पर्यावरणविद धीप्रज्ञ द्विवेदी ने अपनी खुशी जाहिर करते हुए कि अखिलेश सरकार का यह फैसला स्वागत योग्य है। हम चाहते हैं कि सरकार जल्द से जल्द फार्मेसी काउंसिल के क्रियाकलापों को ऑनलाइन करें ताकि धांधली को रोका जा सके। इस बावत हमने सीएम को चिट्ठी भी लिखी थी।

Related posts

अस्पताल प्रशासन ने शिवकुमार की पत्नी का शव लौटाया, स्वस्थ भारत का दबाव काम आया

swasthadmin

द लांसेट : जलवायु परिवर्तन से खाद्य उत्पादन पर पड़ने वाला प्रभाव वर्ष 2050 तक ले सकता है 05 लाख अतिरिक्त लोगों की जान

swasthadmin

स्वास्थ्य की बात गांधी के साथः 1942 में महात्मा गांधी ने लिखी थी की ‘आरोग्य की कुंजी’ पुस्तक की प्रस्तावना

swasthadmin

1 comment

ashish March 9, 2016 at 9:13 am

Jay ho…..pharmacist

Reply

Leave a Comment