Posts

दिल्ली में देश भर के एनएचएम कर्मियों की होगी जुटान, सरकार को घेरने की बनेगी योजना

  • 14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

    14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

    AINHMA की बैठक 14 जून को

देश की सबसे बड़ी स्वास्थ्य परियोज़ना राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में अनुबंध पर काम करने वाले कर्मचारी अपनी स्थाईकरण की मांग को लेकर लामबंद हो रहे है ! विदित है की देश भर में लाखों की संख्या में चिकित्सक, पैरामेडिकल समेत लाखों कर्मचारी बर्षों से अपनी सेवा दे रहे हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की सारी योज़नाओं को लोगों के बीच ले जाने की जिम्मेदारी इन्हीं संबीदा कर्मचारिओं पर है। बरसों से मेहनत कर रहे इन संबीदा कर्मचारिओं के स्थाईकरण को लेकर अब तक न ही केंद्र सरकार ने कोई पहल की है और न राज्य सरकारों ने दिलचस्पी दिखाई है। नियमितीकरण की अपनी मांग को लेकर हर बार ठगे गए इन संबीदा कर्मचारिओं ने इस बार आर-पार की लड़ाई का मन बनाया है। इसको लेकर दिल्ली में बैठकों का दौर जारी है। आगामी 14 जून 2015 को देश भर के राज्य स्तरीय एन.एच.एम संगठनों के प्रतिनिधि व स्थाईकरण आंदोलन से जुड़े सैकड़ों कार्यकर्ता इकट्ठा! हो रहे हैं।

इस बावत इस महाआयोजन का संयोजन कर रहे स्वास्थ्य कार्यकर्ता विनय कुमार भारती ने बताया कि, दिनांक 14 जून 2015 को अखिल भारतीय राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संगठन की कार्यकारणी के गठन का प्रस्ताव है। AINHMA के संस्थापक विनय भारती ने आगे बताया कि इस दिन देश भर से आए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से जुड़े कर्मचारियों की समस्या व समाधान पर चर्चा होगी।

 

 

सेमिनार में शामिल होने के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म यहाँ से कॉपी-पेस्ट करें !

 

 

 

 

All India NHM Association (AINHMA)          

            

STATES NHM UNION’S REPRESENTATIVE  MEET & ELECTION OF GOVERNNING BODY OF ALL INDIA NHM ASSOCIATION, New Delhi

Venue: Maharashtra Bhawan, Nr. Paharganj Police Station, New Delhi

Contact: 09911278418 / 08826890764

                  (Date: 14th June 2015 Time: 10 am onwards)

Participation form

———————-

District / State :

Name and address association:

 

Name ofdeligates:

  1. ………………………………………………………………………………………………….Contact No.…………………………
  2. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………..…….
  3. ………………………………………………………………………………………………….Contact No …………….…………..
  4. ………………………………………………………………………………………………Contact No………………………..
  5. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………………
  6. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………………

Name, Designation and contact details of Team Leader/ Team coordinator:

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………Participatuon fee : 2800/ – one participant.

Mode of payment: Cash/ Cheque / Online Banking (Please tick any one)

(*Please attach xerox copy of payment receipt with the participation form.)

Please send cash, cheque, DD in favor of “BHARTI INDIA RURAL DEVELOPMENT SOCIETY”, Current Account No: 13111131003298, (Oriental Bank of Commerce) IFSC Code – ORBC 0101311.

Please submit the filled format and payment receipt (cash/chechqe /net banking) and send its soft copy to ainhamdelhi@gmail.com , Cc- vinayk@zindagizindabad.com . Delegates are requested to bring original copy of payment receipt during conference at Delhi. (Original copy required for the audit purpose).

Name & signature of team leader

                             Terms & Conditions

 

  1. Delegates will book his/her journey tickets to avoid problems.
  2. Delegates are requested to report their arrival one day before the conference. All are requested to report on 13th June 2015 after noon to late night as per travel plan.
  3. Delegates those are reaching Delhi to attend conference must inform their arriving schedule to AINHMA.
  4. Delegates will be provided food/refreshment by AINHMA management during conference.
  5. Smoking and alcohol will not to be allowed in conference hall.
  6. Delegates are looking for accommodation (Hotel room) to stay. They can contact AINHMA administration before 8th June 2015. After paying actual hotel cost AINHMA will help to book that hotel room.
  7. AINHMA request our guest to do online hotels booking near preferably paharganj location.
  8. Delegates are requested to bring his valid ID proof with one passport / size photographs for special ID card provided by AINHMA.
  9. All the delegates are requested to cooperate AINHMA members and hotel service to maintain peace during you stays at Delhi.
  10. There are elections / nomination has been proposed for the formation of GOVERNING BODY. All the delegates are requested to participate actively in election / nomination. It will be decided on spot during the conference with the consent of NHM delegates.
  11. If any member found any misbehavior / violence he/she will be out from the conference.

 

Signature of Every participant with full name.

 

14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

6 नवंबर से विश्व आयुर्वेद सम्मेलन, प्रधानमंत्री करेंगे उद्घाटन

हम ‘पंचम वेद’ के गौरव को अक्षुण्ण रखने के प्रति कटिबद्ध हैः स्वास्थ्य मंत्री

भारतीय स्वास्थ्य ज्ञान बहुत पुरातन है, जरूरत है इसे आगे बढ़ाने की...सरकार की सक्रियता दिख रही है...जनता को जगने की जरूरत है

भारतीय स्वास्थ्य ज्ञान बहुत पुरातन है, जरूरत है इसे आगे बढ़ाने की…सरकार की सक्रियता दिख रही है…जनता को जगने की जरूरत है

 

Ashutosh Kumar Singh for SBA

छठा विश्व आयुर्वेद सम्मेलन (अखिल भारत आयुर्वेद महासम्मेलन) सरकारी तत्वावधान में 06 नवम्बर से लेकर 09 नवम्बर तक नई दिल्ली स्थित प्रगति मैदान में आयोजित किया जाएगा। यह सम्मेलन भारतीय जन स्वास्थ्य प्रणाली की मुख्य धारा में ‘पंचम वेद’ के गौरवमयी स्थान को रेखांकित करने के लिए आयोजित किये जाने वाले अनेक कार्यक्रमों की श्रृंखला का एक हिस्सा होगा।
विश्व आयुर्वेद कांग्रेस के स्वरूप के बारे में विस्तार से बताते हुए डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि इस दौरान 15 अनुसंधान विषयों पर 5 पूर्ण सत्र और 25 तकनीकी सत्र आयोजित किये जाएंगे। इस दौरान भारत, जर्मनी, इटली, अमेरिका, अर्जेंटीना, रूस और कई अन्य देशों के वैज्ञानिकों की ओर से कुल मिलाकर 750 वैज्ञानिक प्रपत्र पेश किये जाएंगे। 
अंतर्राष्ट्रीय प्रतिनिधि संगोष्ठी, राष्ट्रीय चिकित्सीय पौध बोर्ड द्वारा चिकित्सीय पौधों पर आयोजित की जाने वाली अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी और फॉर्मेक्सिल द्वारा आयोजित की जाने वाली क्रेता-बिक्रेता बैठक इस सम्मेलन का मुख्य आकर्षण होंगी।
मंत्री ने घोषणा की कि ‘आरोग्य एक्सपो’ के जरिए इसे एक सार्वजनिक कार्यक्रम बनाने का इरादा है, जो आयुर्वेद, योग, प्राकृतिक, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी चिकित्सा प्रणालियों पर एक स्वास्थ्य मेले की तरह होगा। विश्व आयुर्वेद कांग्रेस के दौरान इसका आयोजन हॉल नम्बर 18 में किया जाएगा। आयुर्वेदिक दवाओं से वास्ता रखने वाली तकरीबन 500 दवा कंपनियां इसमें शिरकत करेंगी।
डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘हमारी परंपरागत दवाओं के चमत्कार से रूबरू होने के लिए आम जनता को आमंत्रित किया जाएगा। हम निःशुल्क परामर्श की सुविधाएं मुहैया कराएंगे, जिसके तहत ‘आयुष’ डॉक्टर सभी मरीजों की जांच करने के बाद उन्हें निःशुल्क दवाएं भी मुहैया कराएंगे। लाइव योग सत्र भी आयोजित करने का इरादा है।’

डॉ. हर्षवर्धन ने इस ओर ध्यान दिलाया कि भारत में आज भले ही आयुर्वेद को नजरअंदाज किया जा रहा हो, लेकिन सभी भारतीयों को यह जानकर गर्व होगा कि अमेरिका के इलिनॉयस स्थित शिकागो मेडिकल स्कूल के पैथोलॉजी संग्रहालय में प्राचीन भारतीय चिकित्सक ‘सुश्रुत’ की तस्वीर लगी हुई है। इस तस्वीर के नीचे लिखे गये चित्र परिचय में उनका वर्णन इस तरह से किया गया हैः मोतियाबिंद की प्रथम शल्‍य–चिकित्‍सा करने वाले शख्‍स।

उन्‍होंने कहा, ‘मैं चाहता हूं कि अगले दो वर्षों में भारतीय अंतर्राष्‍ट्रीय व्‍यापार मेले की ही तरह विश्‍व आयुर्वेद कांग्रेस भी लोकप्रिय हो जाए, जिसका आयोजन प्रगति मैदान में ही होता है। इसके जरिए भारतीयों की नई पीढ़ी आधुनिक चिकित्‍सा की जन्‍मस्‍थली के रूप में भारत के गौरवमयी इतिहास के बारे में और ज्‍यादा जान पाएगी। स्‍वास्‍थ्‍य शिविर निश्‍चित रूप से एक बड़ा आकर्षण होंगे।’

आयुर्वेद का एम्स
वहीं दूसरी तरफ एक संवाददाता सम्मेलन में इस आशय की घोषणा करते हुए केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने कहा कि दिल्ली के जसोला में निर्माणाधीन नये अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान (एआईआईए) में शैक्षणिक वर्ष 2015-16 के दौरान स्नातकोत्तर विद्यार्थियों का पहला बैच दाखिला लेगा।

डॉ. हर्षवर्धन ने कहा, ‘मेरा एक आरंभिक निर्णय पाठ्यक्रम को मंजूरी देने के बारे में था। मैं चाहता हूं कि यह संस्थान इस तरह से विकसित हो कि उसकी तुलना अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान से होने लगे। दूसरे शब्दों में, यह आयुर्वेद के लिए एम्स साबित हो।’
दस एकड़ में फैले परिसर में 200 बिस्तरों वाला सात मंजिला परामर्श अस्पताल भी होगा। इस अस्पताल में अभी से छह माह के भीतर मरीजों को भर्ती करने का सिलसिला शुरू हो जाएगा। एआईआईए एक ऐसे उत्कृष्टता केन्द्र के रूप में उभर कर सामने आएगा, जिसमें बुनियादी शोध, दवा सुरक्षा के मूल्यांकन, मानकीकरण, गुणवत्ता नियंत्रण और आयुर्वेदिक दवाओं की वैज्ञानिक पुष्टि करने के कार्यों को बखूबी अंजाम दिया जाएगा।
स्वास्थ्य मंत्री वैसे तो आधुनिक पश्चिमी चिकित्सा प्रणाली से वास्ता रखने वाले एक ईएनटी सर्जन हैं, लेकिन वह आयुर्वेद की भी भूरि-भूरि प्रशंसा करते रहे हैं। उन्होंने कहा कि नये, निर्माणाधीन एम्स में आयुष विभाग खोलकर वह एम्स के अंतर्गत आयुष का गौरवमयी स्थान पहले ही सुनिश्चित कर चुके हैं। समग्र दवा विकसित करने के लिए एक खास विशेषज्ञ समूह भी गठित किया गया है।