Posts

बेटियों का स्वस्थ होना स्वस्थ समाज की पहली कसौटी हैः डॉ अचला नागर

स्वस्थ भारत यात्रा दल का मुंबई में हुआ स्वागत

मुंबई की दो बालिकाएं बनी स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की गुडविल एंबेसडर

मीरा-भाइंदर एवं मालाड में हुए आयोजन

बॉलीवुड के रचनाकारों से यात्रा दल की हुई मुलाकात

प्रथम चरण में यात्रा दल ने पूरी की 2700 किमी की यात्रा, दूसरा चरण कन्याकुमारी तक
स्वस्थ भारत यात्रा के प्रथम चरण में 5 राज्यों की 29 बालिकाएं बनी स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की गुडविल एंबेसडर

मुंबई. 12.2.17

 

यात्रा दल को मिला डॉ अचला नागर का आशीर्वाद
स्वस्थ भारत यात्रा दल ने निकाह, बागवान सहित दर्जनों फिल्म लिखने वाली वरिष्ठ लेखिका डॉ अचला नागर से मुलाकात की। इस अवसर पर उन्होंने यात्रा के लिए अपनी शुभकामना देते हुए कहा कि बेटियों का स्वास्थ्य बहुत जरूरी है। वर्तमान स्थिति में बेटियों के स्वास्थ्य पर चिंता जाहिर करते हुए उन्होंने कहा कि जबतक बेटियां स्वस्थ नहीं होगी तब तक स्वस्थ देश अथवा समाज की परिकल्पना नहीं की जा सकती है। अपने अनुभव को साझा करते हुए उन्होंने कहा कि आज बेटियों के लिए सारे दरवाजे खुले हुए हैं, बस जरूरत है कि वे सार्थक एवं अनुशासित तरीके से आगे बढ़ें। अपनी ताकत को समझें और समाज में अपनी आवाज को बुलंद करें। ‘स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज’ राष्ट्रीय यात्रा की परिकल्पना की तारीफ करते हुए उन्होंने कहा कि जबतक बेटियां सेहतमंद नहीं होंगी सेहतमंद समाज का सपना अधूरा ही रहेगा। एक घंटे तक चली बातचीत में यात्रा दल के वरिष्ठ यात्री एवं वरिष्ठ पत्रकार लतांत प्रसून ने उनके फिल्मी करियर को लेकर कई सवाल पूछे, जिसका उन्होंने सहजता से उत्तर दिया।
सरोज सुमन, डॉ. सागर एवं शेखर अस्तित्व से भी हुई मुलाकात
मुंबई प्रवास के दौरान यात्रा दल ने जाने-माने संगीतकार सरोज सुमन, गीतकार शेखर अस्तित्व एवं डॉ. सागर से मुलाकात की। सभी ने स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की अभियान के लिए यात्रा दल को शुभकामनाएं दी। इस दौरान यात्रा दल ने कवयित्री रीता दास राम से भी मुलाकात की।

 

रत छोड़ो आंदोलन के 75 वर्ष पूर्ण होने के अवसर पर गांधी स्मृति एवं दर्शन समिति के मार्गदर्शन में स्वस्थ भारत (न्यास) द्वारा शुरू हुई स्वस्थ भारत यात्रा का मुंबईकरों ने जोरदार तरीके से स्वागत किया। यात्रा दल सबसे पहले मीरा-भाइंदर के विवेकानंद किड्स स्कूल पहुंचा, जहां पर बच्चों एवं उनको अभिभावकों के बीच में स्वास्थ्य चर्चा हुई। यहां पर जलधारा एवं बेटी बचाओं बेटी पढाओं की टीम ने यात्रा दल का स्वागत किया। इसके बाद यात्रा दल ने दूसरा कार्यक्रम मुंबई के मालाड (ईस्ट) में किया। इस अवसर पर मुंबई की दो बालाकाओं को स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज का गुडविल एंबेसडर मनोनित किया गया। शरन्या सिगतिया और प्रीति सुमन को इस अभियान का गुडविल एंबेसडर बनाया गया। प्रीति सुमन जहां एक ओर निर्देशन के क्षेत्र में अपना नाम रौशन कर रही हैं वहीं उनकी गायकी के चर्चे भी चहुंओर हैं। शरन्या सिगतिया की उम्र अभी 12 वर्ष ही है लेकिन उन्होंने अपनी कक्षा में बेहतरीन परफॉमेंस दिया है। मालाड में आयोजित इस कार्यक्रम में स्वस्थ भारत (न्यास) के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने कहा कि आज समय आ गया है कि हम अपनी सेहत को लेकर चिंतनशील हों। सेहत की चिंता हम सरकार के भरोसे नहीं छोड़ सकते हैं। सेहत से बड़ा पूंजी कुछ और नहीं है। यात्रा दल के मार्गदर्शक की भूमिका निभा रहे वरिष्ठ पत्रकार प्रसून लतांत जी ने कहा कि महाराष्ट्र एवं गुजरात की धरती पर माताओं एवं बहनों के प्रति समाज ज्यादा संवेदनशील है। उन्होंने निगम का चुनाव लड़ रहीं 
संगीता ज्ञानमूर्ति शर्मा से कहा कि आप जीत के बाद स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज के इस संदेश को और व्यवस्थित तरीके से घर-घर ले जाएं. इस अवसर पर मालाड पूर्व के निगम पार्षद ज्ञानमूर्ति शर्मा ने दवाइयों में मची लूट के बारे में लोगों को जागरूक किया। इस अवसर पर कमलेश शाह, वरिष्ठ लेखिका अलका अग्रवाल सिगतिया, विनोद रोहिल्ला सहित सैकड़ों महिलाएं उपस्थित थीं। महाराष्ट्र में निगम चुनाव के गहमागहमी के बीच में मालाड के स्थानीय लोगों द्वारा आयोजित इस स्वास्थ्य चर्चा के लिए स्वस्थ भारत न्यास के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने उन्हें धन्यवाद ज्ञापित किया।

यात्रा के प्रथम चरण में 29 बालिकाएं बनीं स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की गुडविल एंबेसडर
 2700 किमी की प्रथम चरण की यात्रा में यात्री दल ने स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज अभियान से 29 बालिकाओं को जोड़ा। इन्हें इस अभियान का गुडविल एंबेसडर बनाया गया। हरियाणा में 6, राजस्थान में 4, मध्यप्रदेश में 15, गुजरात में 2 एवं महाराष्ट्र में 2 बालिकाओं को गुडविल एंबेसडर बनाकर सम्मानित किया गया है। 
गौरतलब है कि स्वस्थ भारत यात्रा ‘भारत छोड़ो आंदोलन के 75 वें वर्षगांठ पर आरंभ किया गया है। नंई दिल्ली में मुख्तार अब्बास नकवी ने इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। इस यात्रा को गांधी स्मृति एंव दर्शन समिति, संवाद मीडिया, राजकमल प्रकाशन समूह, नेस्टिवा अस्पताल, मेडिकेयर अस्पताल, स्पंदन, जलधारा, हेल्प एंड होप, वर्ल्ड टीवी न्यूज़ सहित अन्य कई गैरसरकारी संस्थाओं का समर्थन है। 13 फरवरी को यह यात्रा पुणे होते हुए कन्याकुमारी जायेगी। जहां पर दूसरे चरण की यात्रा समाप्त होगी। 16000 किमी की जनसंदेशात्मक यह यात्रा अप्रैल में समाप्त होगी।
#SwasthBharatYatra #SwasthBalikaSwasthSamaj #KnowYourMedicine#SwasthBharatAbhiyan #GSDS

यात्री दल से संपर्क
9891228151, 9811288151

फार्मासिस्टों का भूख हड़ताल तीसरे दिन भी जारी, हरकत में आया मुख्यमंत्री कार्यालय

tisra din

नई  दिल्ली/लखनऊ

लखनऊ के लक्ष्मण मेला मैदान में यूपी के फार्मासिस्टों का भूख हड़ताल लगातार तीसरे दिन भी जारी है। उनकी मांग है कि जब तक मुख्यमंत्री आकर उनसे बात नहीं करते वे हड़ताल जारी रखेंगे। इस बावत फार्मासिस्ट फाउंडेशन के अमीत श्रीवास्तव ने कहा कि अब फार्मासिस्ट जाग गए हैं। देश की आम जनता के स्वास्थ्य के साथ हो रहे खिलवाड़ को हम सहन नहीं कर सकते हैं। वहीं जाने-माने फार्मा एक्टिविस्ट विनय कुमार भारती ने कहा कि अब समय आ गया है कि सभी फार्मासिस्ट एकजूट होकर मुद्दे की ल़ड़ाई लड़ें।

उधर मुख्यमंत्री कार्यालय के अधिकारी धरना स्थल पर पहुंचकर धऱनाकर्मियों से बातचीत कर रहे हैं। फार्मासिस्टों का ज्ञापन  राज्यपाल व मुख्यमंत्री तक पहुंचा दिया गया है।

वहीं इस बावत स्वस्थ भारत अभियान की ओर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को एक पत्र लिखा गया है, जिसमें कहा गया है कि वे फार्मासिस्टों की मांग जल्द से जल्द सुनें।

 

28 सितंबर को लखनऊ में फार्मासिस्टों की महारैली

Pharmacist Foundation

ड्रग लाइसेंस घोटाले की सीबीआई जांच की मांग


लखनऊ/ 
यूपी के चर्चित ड्रग लाइसेंस घोटाले की सीबीआई जांच की माग जोर पकड़ने लगी है। इस घोटाले से पर्दा उठाने के लिए देश भर के फार्मासिस्ट आंदोलन के मूड में हैं। इसी संदर्भ में यूपी की संस्था फार्मासिस्ट फाउंडेशन ने 28 सितम्बर को लखनऊ में एक महारैली का आयोजन करने जा रही है। इस बावत संस्था के अध्यक्ष अमित श्रीवास्तव ने बताया कि, सुबह 10 बजे ग्लोब पार्क से रैली शुरू होगी जो एफडीए होते हुए मेडिकल चौक तक जायेगी।उन्होंने आगे बताया कि प्रदेश स्तरीय रैली में यूपी समेत राजस्थान, झारखण्ड बिहार, छत्तीसगढ़ समेत अन्य राज्यों के फार्मासिस्ट संगठन भी सिरकत कर रहे हैं!

अमित ने बताया की पूरे राज्य में 60 हज़ार फार्मासिस्ट हैं जिनमें करीब 15 हजार सरकारी अस्पतालों में अलग-अलग पदों पर कार्यरत हैं। जबकि दवा दुकानों की संख्या दोगुनी से भी ज्यादा है । यूपी फ़ूड एंड ड्रग डिपार्टमेंट पूरी तरह भ्रष्टाचार में डूबा हुवा है । नतीज़तन ड्रग एंड कॉस्मेटिक एक्ट और फार्मेसी एक्ट जैसे कानून का अस्तित्व ही मिट गया है । विगत दो वर्षों से फार्मासिस्ट अपने हक़ और अधिकार की लड़ाई लड़ रहे है । कई बार सरकार को स्थिति से अवगत कराया गया पर इस दिशा में संतोषप्रद काम नहीं हो पाया है।  हम चाहते हैं कि इस घोटाले की जांच सीबीआई करे। इस बीच इस रैली को स्वस्थ भारत अभियान का भी समर्थन प्राप्त हो चुका है।

 

यूपी को ढाई लाख फार्मासिस्ट देने के लिए हम तैयार हैं!

यूपी सरकार किसी के बहकावे में न आए…दोषियों को सजा दें औऱ जनता को न्याय
दैनिक जागरण, लखनऊ संस्करणमें प्रकाशित खबर को आप भी पढ़ें...

दैनिक जागरण, लखनऊ संस्करणमें प्रकाशित खबर को आप भी पढ़ें…

आपने PAID Reporting रिपोर्टिंग का नाम सुना होगा मतलब पैसे लेकर खबर लिखना।  वैसे पत्रकारिता में आजकल यह आम बात हो गई है ! पर दैनिक जागरण जैसा प्रतिष्ठित अख़बार ऐसी गैर जिम्मेदार हरकत करे यह दुःखद है।  दैनिक जागरण लखनऊ संस्करण में छपी इस न्यूज़ में जस्टिस के एल शर्मा शर्मा के रिपोर्ट के हवाले से कहा गया है कि पूरी तरह क़ानूनी रूप से दवा दुकान चलने हेतु यूपी को करीब ढाई लाख फार्मासिस्ट चाहिए। आपत्ति उनकी सर्वे रिपोर्ट पर विल्कुल नहीं पर, हाँ शर्मा जी के सुझाव पर जरूर है ! क्या #जज_साहेब ने इसपर स्टडी नहीं की कैसे सारे नियम कानून ताक पर रखकर गैर क़ानूनी रूप से लाखों ड्रग लाइसेंस बनाये गए ? अरे जज साहब, ख़ुशी होती जब आप अपनी निष्पक्ष जांच कर सीबीआई जांच हेतु अनुशंसा करते और ड्रग लाइसेंस घोटाले में लिप्त दोषी #FDA अधिकारिओं को फांसी की सजा की मांग करते ! मेरी बात अभी पूरी नहीं हुई…इस खबर की बारीकियों से देखने से साफ़ पता चलता है की ऑल इंडिया केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फेडरेशन #AICDF का पक्ष सुना गया। लिखा भी गया… पर #फार्मासिस्ट_एसोसिएशन, स्टेट फार्मेसी कॉउंसिल या फार्मेसी कौंसिल ऑफ़ इंडिया को अपनी बात रखने का मौका नहीं दिया गया ! फिलहाल मात्र दो आरोप ही लगाउँगा !

पहली: जज साहब (के0एल0शर्मा) ने रिपोर्ट बनाने के लिए कितने पैसे खाए ?
दूसरी : इस खबर को बनाने वाले पत्रकार #डॉ.संजीव ने कितने पैसे खाए ?
 
मेरी बात अभी भी ख़त्म नहीं हुई। यूपी को मात्र ढाई लाख फार्मासिस्ट चाहिए ! मात्र ढाई लाख…. अरे जनाब मैं यूपी को पांच लाख फार्मासिस्ट देने को तैयार हूँ अगर यूपी की सरकार और आल इंडिया केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फ़ेडरेशन की औकात हो तो …कानून सम्मत हर दवा की दुकान में उनकी योग्यता के अनुरूप सम्मानजनक वेतन देकर फार्मासिस्ट नियुक्त करे ! अभी भी बात खत्म नहीं हुई ! मुंबई में एक फार्मासिस्ट को दवा की दुकान में पच्चीस हज़ार प्रतिमाह वेतन मिलते है ! बताना भूल गया था।

कब जागेगी पीसीआई!

कब सुधरेगी पीसीआई!

कब सुधरेगी पीसीआई!

हम सब को मालूम है कि फार्मासिस्टों के हितो की रक्षा करने के लिए एक सरकारी संस्था काम करती है। जिसका नाम है फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया। लेकिन जब से मैं फार्मेसी काउंसिल के कार्यों को जानने-समझने लगा हूं मुझे लगता है कि यह संस्थान केवल कागजों पर ही पहाड़ खड़ा करती रही है। हम फार्मासिस्टों की दशा व दिशा से इसे शायद ही कुछ लेना-देना रहा हो। केमिस्ट एसोसिएशनों की गोद में बैठी यह संस्था आज अपना वजूद खो चुकी है। इसे जगाने की जरूरत है। दिल्ली में हमलोगों ने पिछले दिनों इस कॉउंसिल को उसके मूल काम को याद दिलाने की कोशिश की थी…लेकिन अभी बहुत कुछ  करना बाकी है।

दरअसल फार्मेसी कौंसिल ऑफ़ इंडिया का काम केवल एक्ट बनाना और कॉलेजों का अप्रूवल करना मात्र नहीं है बल्कि इसे फार्मेसी की बदहाली व गिरती सेहत के लिए ज़िम्मेदारी लेते हुए सुधार की दिशा में कदम भी उठाना पड़ेगा।  यही बात पीसीआई के घेराव के समय भी बताने की कोशिश की गई थी । चिकित्सकों की संस्था मेडिकल कौंसिल ऑफ़ इंडिया, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन समय-समय पर केंद्र और राज्य सरकारों पर अपने हितों की रक्षा के लिए दबाब डालते रहते हैं। चूकि वे एकजुट होकर जोरदार तरीके से एक सुर में अपनी बात रखते हैं जिसका परिणाम यह होता है कि सरकार उनकी हरेक बात को गंभीरता से सुनती है और जायज मांगो को तुरंत मान भी लेती है। वहीं दूसरी तरफ हमलोग हैं कि अपने अधिकारों के प्रति जागरूक ही नहीं हैं…यदि हम सच में जागरूक हो जाएं तो पीसीआई व सरकारों की हिम्मत नहीं है कि वो हमारी मांगो को अऩसुनी कर दे।

विगत कुछ महीने में तेज़ी से बदलाव दिखे हैं। लेकिन इतना ही काफी नहीं है। हाथ पर हाथ रखकर हम बैठ भी नहीं सकते। हमें देश के सभी फार्मासिस्टों को जागरूक करना होगा। उन्हें जगाना होगा उनके अधिकारों के प्रति, उनके कर्तव्यों के प्रति। जैसा कि दिल्ली में हुए फार्मासिस्ट सम्मेलन में वक्ताओं ने सुझाया है कि सभी फार्मासिस्टों को एकजुट होना चाहिए। मुझे भी लगता है कि अब समय आ गया है कि हम सब एकजुट होकर देश हित में फार्मा इंडस्ट्री में एक नई बहार लेकर आएं और देश की जनता को बेहतर स्वास्थ्य सुविधा मुहैया कराने में अपनी भूमिका सुनिश्चित करें। फिलहाल इतना ही।

केवल रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट ही करेंगे होलसेल दवा कारोबार…

सरकार के इस योजना से फार्मासिस्टों में खुशी का माहौल

पिछले कई वर्षों से फार्मासिस्ट यह मांग कर रहे हैं कि जहां दवा वहां फार्मासिस्ट होना जरूरी है। इस ओर सरकार का ध्यान अब गया है। सरकार अब होलसेल बिक्री के लिए भी फार्मासिस्टों की अऩिवार्य बनाने जा रही है। सरकार के इस फैसले का स्वागत स्वस्थ भारत अभियान भी करता है।

जहां दवा वहां फार्मासिस्ट

जहां दवा वहां फार्मासिस्ट

नई दिल्ली/

अबतक फार्मासिस्टों की मांग केवल रिटेल सेक्टर तक सिमित थी। सरकार ने नियम कानून में संसोधन कर अब होलसेल ड्रग लाइसेंस में फार्मासिस्टों की अनिवार्यता को हरी झंडी दे दी है! पहले मात्र दसवीं पास व्यक्ति को भी बड़ी आसानी से थोक कारोबार हेतु ड्रग लाइसेंस मिल जाते थे ।  लम्बे अर्से से फार्मासिस्ट रिटेल के साथ ही होलसेल ड्रग लाइसेंस में भी रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट की अनिवार्यता की मांग कर रहे थे ! आख़िरकार उनकी मांगों पर केंद्र सरकार का ध्यान गया और ड्रग टेक्निकल एडवाइजरी बोर्ड ने इस सन्दर्भ में अपना रुख साफ कर दिया है। जल्द ही फैसले को लागू करने का प्रस्ताव दिया है ! इस खबर से जहाँ एक तरफ फार्मासिस्ट संगठनो में उत्सव का माहोल है वही दूसरी इस खबर से केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट संगठनों के होश उड़े हुए हैं! दवा बाज़ार में मायूसी का माहौल है। उधर फार्मेसी काउंसिल ऑफ इंडिया ने भी सरकार के इस रूख का समर्थन किया है।

आइये देखते हैं किसने क्या कहा-

सरकार के फैसले का स्वागत करते हैं ! इसके दूरगामी परिणाम होंगे ! फार्मासिस्टों में व्यवसाय के प्रति रूचि बढ़ेगी बेरोजगारी कम होगी ! – अंजनी कुमार, पूर्व ड्रग कंट्रोलर, झारखण्ड

जबतक यह पूरी तरह से लागू नहीं होे जाता है, हमलोग चैन से बैठने वाले नहीं है। सरकार को चाहिए कि वह इसे जल्द से जल्द लागू करे।- धर्मेन्द्र सिंह, अध्यक्ष, सिंहभूम फार्मासिस्ट एसोसिएशन, झारखंड

दवा की देखरेख केवल एक फार्मासिस्ट ही बेहतर तरीके से कर सकता है। गैर-फार्मसिस्ट को दवा की रख-रखाव की जानकारी नहीं होती है। कई बार वैक्सीन को उचित तापमान में स्टोरेज नहीं करने से दवा जहरीली हो जाती है। गैर फार्मसिस्ट को इस बात की जानकारी नहीं होती वे दवा को भी अन्य वास्तु की तरह समझते है !- उमेश खके, अध्यक्ष, यूनियन ऑफ़ रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट, महाराष्ट्र

बहुत खुश हूं। सरकार अगर ऐसा सोच रही है तो यह सराहनीय प्रयास है। हम सभी फार्मासिस्ट सरकार के इस फैसले का स्वागत करते हैं।-सर्वेश्वर शर्मा, अध्यक्ष, फार्मासिस्ट जागृति संस्थान, राजस्थान

उत्तरप्रदेश में रिटेल से ज्यादा होलसेल लाइसेंस जारी किये गए हैं ! दवा माफिया होलसेल लाइसेंस बना कर रिटेल मेडिकल शॉप दुकान चला रहे थे ! इस नए नियम से अनियमितताओं पर काफी हद तक अंकुश लगेगा ! यूपी की सरकार ने ऑनलाइन लाइसेंस शुरू किया है यहाँ हालात तेजी से बदल रहे है ।-अमित श्रीवास्तव, अध्यक्ष, फार्मासिस्ट फाउंडेशन, यूपी

आल इंडिया एसोसिएशन और केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट फार्मासिस्ट की अनिवार्यता की मांग ख़त्म करने पर उतारू थे ! भारत सरकार का यह फैसला हार्मासिस्टों के मुँह पर करारा तमाचा है ! फार्मासिस्टों के अच्छे दिन आ रहे हैं !- विनय कुमार भारती, एक्टिविस्ट

सरकार को चाहिए की जब तक प्रक्रिया पूरी ना हो तबतक स्टेट फ़ूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन को नए होलसेल लाइसेंस बनाने से रोके ! अन्यथा पुराने नियम का हवाला देकर रातों रात लाइसेंस निर्गत कर दिए जायेगे ! फ़ूड और ड्रग डिपार्टमेंट पर भरोसा कतई नहीं किया जा सकता ! –सचिन भालेकर, ग्रीन क्रॉस फाउंडेशन, पुणे (महाराष्ट्र)

यह खबर सुकुनदायी है। लेकिन अभी जबतक पूरी तरह से कानून नहीं बन जाता हमें ज्यादा खुश होने की जरूरत नहीं है।-
कैलाश तांडले, अध्यक्ष महाराष्ट्र रजिटर्ड फार्मासिस्ट एसोसिएशन

इस खबर से हमारी लड़ाई को बल मिलेगा। हमलोग फार्मासिस्टों के हितो की रक्षा के लिए संघर्षरत है। इस सफलता से हमें अपने लक्ष्य को प्राप्त करने में सहुलियत होगी। –सोफिउर रहमान खान, अध्यक्ष, असम रजिस्टर्ड फार्मासिस्ट एसोसिएशन

सरकार को अब समझ में आ रहा है कि फार्मासिस्ट स्वास्थ्य व्यवस्था के लिए कितना जरूरी हैं। –विवेक मौर्या , प्रवक्ता, प्रांतीय फार्मासिस्ट एसोसिएशन, मध्यप्रदेश
इस खबर का हम स्वागत करते हैं। सरकार से उम्मीद करते हैं कि वो इसे जल्द कानून के रूप में लेकर आयेगी। –पैटर्न राज, अध्यक्ष तमिलनाडु फार्मासिस्ट वेलफेयर एसोसिएशन

फार्मासिस्टों को स्वास्थ्य व्यवस्था से दूर करने की साजिश की जा रही है। इस बीच में यह खबर सुकुनदायी है। लेकिन हमें पहले से और सतर्क रहने की जरूरत है।- राम प्रवीण, अध्यक्ष, गुजरात फार्मासिस्ट एसोसिएशन

सही समय है। अब फार्मासिस्टों को एकजुट होना चाहिए। और आपस की कड़वाहट को भूलाकर एक मंच पर आने की जरूरत है तभी हम अपने अधिकारों को प्राप्त कर पायेंगे। –राहुल वर्मा, अध्यक्ष छत्तीसगढ़ यूथ फार्मासिस्ट एसोसिएशन

गौरतलब है कि होलसेल में फार्मासिस्ट की अनिवार्यता की मांग  इंडियन फार्मासिस्ट ग्रेजुएट एसोसिएशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष अतुल कुमार नासा ने की थी! अतुल कुमार नासा काफी दिनों से इसके लिए संघर्ष कर रहे थे। देश भर के फार्मासिस्ट संगठनों ने सरकार का आभार व्यक्त किया है ।

दिल्ली में देश भर के एनएचएम कर्मियों की होगी जुटान, सरकार को घेरने की बनेगी योजना

  • 14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

    14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

    AINHMA की बैठक 14 जून को

देश की सबसे बड़ी स्वास्थ्य परियोज़ना राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन में अनुबंध पर काम करने वाले कर्मचारी अपनी स्थाईकरण की मांग को लेकर लामबंद हो रहे है ! विदित है की देश भर में लाखों की संख्या में चिकित्सक, पैरामेडिकल समेत लाखों कर्मचारी बर्षों से अपनी सेवा दे रहे हैं। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की सारी योज़नाओं को लोगों के बीच ले जाने की जिम्मेदारी इन्हीं संबीदा कर्मचारिओं पर है। बरसों से मेहनत कर रहे इन संबीदा कर्मचारिओं के स्थाईकरण को लेकर अब तक न ही केंद्र सरकार ने कोई पहल की है और न राज्य सरकारों ने दिलचस्पी दिखाई है। नियमितीकरण की अपनी मांग को लेकर हर बार ठगे गए इन संबीदा कर्मचारिओं ने इस बार आर-पार की लड़ाई का मन बनाया है। इसको लेकर दिल्ली में बैठकों का दौर जारी है। आगामी 14 जून 2015 को देश भर के राज्य स्तरीय एन.एच.एम संगठनों के प्रतिनिधि व स्थाईकरण आंदोलन से जुड़े सैकड़ों कार्यकर्ता इकट्ठा! हो रहे हैं।

इस बावत इस महाआयोजन का संयोजन कर रहे स्वास्थ्य कार्यकर्ता विनय कुमार भारती ने बताया कि, दिनांक 14 जून 2015 को अखिल भारतीय राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन संगठन की कार्यकारणी के गठन का प्रस्ताव है। AINHMA के संस्थापक विनय भारती ने आगे बताया कि इस दिन देश भर से आए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन से जुड़े कर्मचारियों की समस्या व समाधान पर चर्चा होगी।

 

 

सेमिनार में शामिल होने के लिए रजिस्ट्रेशन फॉर्म यहाँ से कॉपी-पेस्ट करें !

 

 

 

 

All India NHM Association (AINHMA)          

            

STATES NHM UNION’S REPRESENTATIVE  MEET & ELECTION OF GOVERNNING BODY OF ALL INDIA NHM ASSOCIATION, New Delhi

Venue: Maharashtra Bhawan, Nr. Paharganj Police Station, New Delhi

Contact: 09911278418 / 08826890764

                  (Date: 14th June 2015 Time: 10 am onwards)

Participation form

———————-

District / State :

Name and address association:

 

Name ofdeligates:

  1. ………………………………………………………………………………………………….Contact No.…………………………
  2. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………..…….
  3. ………………………………………………………………………………………………….Contact No …………….…………..
  4. ………………………………………………………………………………………………Contact No………………………..
  5. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………………
  6. ………………………………………………………………………………………………… Contact No …………………………

Name, Designation and contact details of Team Leader/ Team coordinator:

………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………………Participatuon fee : 2800/ – one participant.

Mode of payment: Cash/ Cheque / Online Banking (Please tick any one)

(*Please attach xerox copy of payment receipt with the participation form.)

Please send cash, cheque, DD in favor of “BHARTI INDIA RURAL DEVELOPMENT SOCIETY”, Current Account No: 13111131003298, (Oriental Bank of Commerce) IFSC Code – ORBC 0101311.

Please submit the filled format and payment receipt (cash/chechqe /net banking) and send its soft copy to ainhamdelhi@gmail.com , Cc- vinayk@zindagizindabad.com . Delegates are requested to bring original copy of payment receipt during conference at Delhi. (Original copy required for the audit purpose).

Name & signature of team leader

                             Terms & Conditions

 

  1. Delegates will book his/her journey tickets to avoid problems.
  2. Delegates are requested to report their arrival one day before the conference. All are requested to report on 13th June 2015 after noon to late night as per travel plan.
  3. Delegates those are reaching Delhi to attend conference must inform their arriving schedule to AINHMA.
  4. Delegates will be provided food/refreshment by AINHMA management during conference.
  5. Smoking and alcohol will not to be allowed in conference hall.
  6. Delegates are looking for accommodation (Hotel room) to stay. They can contact AINHMA administration before 8th June 2015. After paying actual hotel cost AINHMA will help to book that hotel room.
  7. AINHMA request our guest to do online hotels booking near preferably paharganj location.
  8. Delegates are requested to bring his valid ID proof with one passport / size photographs for special ID card provided by AINHMA.
  9. All the delegates are requested to cooperate AINHMA members and hotel service to maintain peace during you stays at Delhi.
  10. There are elections / nomination has been proposed for the formation of GOVERNING BODY. All the delegates are requested to participate actively in election / nomination. It will be decided on spot during the conference with the consent of NHM delegates.
  11. If any member found any misbehavior / violence he/she will be out from the conference.

 

Signature of Every participant with full name.

 

14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी

14 जून को जुटेंगे एनएचएम कर्मी