समाचार

इलाज़ के लिए दर-दर भटक रही है तेजाब पीड़िता पूजा, सरकारी दावों की खुली पोल

इन सब के बीच आज भी पूजा मुआवजे के लिए दर-दर की ठोकरें खा रही है.. पूजा के दो मासूम बच्चियां अनाथालय में रहने को मजबूर हैं। तो सवाल ये उठता है कि प्रदेश सरकार की स्कीम और सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बावजूद एसिड अटैक पीड़ित को मुआवजा नहीं मिल पाना सरकार की विफलता है या सरकार पर लाल फीताशाही का हावी होना दर्शाता है… क्या ये अफसर सरकारी तंत्र पर इतना हावी हैं कि ये सरकार के निर्देश और सुप्रीम कोर्ट की गाइड लाइन का पालन भी नहीं करते। आखिर कब तक एसिड अटैक पीड़ित जिन्हें शारीरिक और मानसिक तौर पर ठेस पहुंची है वो मुआवजे के लिए इन बाबुओं के दफ्तरों के चक्कर काटते रहेंगे?

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें