Posts

स्वस्थ समाज की परिकल्पना में बालिकाओं का स्वस्थ होना जरूरीः प्रो. बीके कुठियाला

स्वस्थ समाज की परिकल्पना में बालिकाओं का स्वस्थ होना जरूरीः प्रो. बीके कुठियाला

स्वस्थ भारत के यात्रियों ने दिया स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज का संदेश

कबीर वाणी के माध्यम से दिया गया स्वास्थ्य एवं स्वच्छता का संदेश

भोपाल/ 4.02.17

img-20170205-wa0006
बालिकाओं की प्रबंधकीय क्षमता बेहतर होती है। एक समय था जब पत्रकारिता में बालिकाओं की संख्या कम थी लेकिन आज बढ़ी है। बदलाव हो रहा है लेकिन शायद समाज उतना नहीं बदला है जितना उसे बदलने की जरूरत है। नहीं तो स्वस्थ भारत यात्रा की जरूरत नहीं पड़ती। यह कहना था प्रो. बीके कुठियाला का। वे आज शहर में स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज एक परिसंवाद में अपनी बात रख रहे थे. उन्होंने कहा कि भारत छोड़ो आंदोलन के 75 वर्ष को याद करते हुए निकली स्वस्थ भारत की टीम एक बहुत ही ज्वलंत मुद्दे को समाज के सामने रखने का प्रयास कर रही हैं। उन्होंने आगे कहा कि अगर बेटियों को पहले जैसा सम्मान मिल जाए तो शायद आशुतोष कुमार सिंह और उनकी टीम को सड़क पर भटक कर इस तरह के संदेश देने की जरूरत न पड़े।

भोपाल की चार बालिकाएं बनी स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज की गुडविल एम्बेसडर
img-20170205-wa0016

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में आयोजित स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज परिसंवाद के अवसर पर स्वस्थ भारत (न्यास) ने शहर के चार बालिकाओं को इस अभियान का गुडविल एमबेसडर मनोनित किया। आस्था दीक्षित, वत्सला चौबे, सर्वज्ञा त्रिपाठी एवं कीर्ति गुर्जर को गुडविल एंबेसडर मनोनित किया गया। प्रो. बीके कुठियाला एवं स्वस्थ भारत न्यास के चेयरमैन आशतोष कुमार सिंह के हाथों बालिकाओं को यह मनोनयन प्रपत्र प्रदान किया गया।

img-20170205-wa0004

img-20170205-wa0005

img-20170205-wa0007

img-20170205-wa0009

बालिकाओं के उज्जवल भविष्य की कामना करते हुए संस्था के चेयरमैन आशुतोष कुमार सिंह ने कहा कि अगर भारत की बालिकाएं अपनी शक्ति को समझ लें तो निश्चित रूप से वह दिन दूर नहीं जब स्वस्थ समाज की परिकल्पना को पूर्ण किया जा सके। इस अवसर पर मालिनी अवस्थी का वीडियो संदेश भी दिखाया गया। अंतं में सांस्कृतिक कार्यक्रम हुआ जिसमें दयाराम सारोलिया एवं साथियों द्वारा कबीर गायन प्रस्तुत किया गया।
गौरतलब है कि स्वस्थ भारत यात्रा भारत छोड़ो आंदोलन के 75 वें वर्षगांठ पर आरंभ किया गया है। नंई दिल्ली में मुख्तार अब्बास नकवी ने इसे हरी झंडी दिखाकर रवाना किया था। इस यात्रा को गांधी स्मृति एंव दर्शन समिति, संवाद मीडिया, राजकमल प्रकाशन समूह, नेस्टिवा अस्पताल, मेडिकेयर अस्पताल, स्पंदन, जलधारा, हेल्प एंड होप सहित अन्य कई गैरसरकारी संस्थाओं का समर्थन है। 5 फरवरी को यह यात्रा मध्यप्रदेश के इंदौर एवं 6 फरवरी को झाबुआ में रहेगी। 16000 किमी की जनसंदेशात्मक यह यात्रा अप्रैल में समाप्त होगी।
इस अवसर पर स्पंदन के अनिल सौमित्र, सुनिल मिश्र, विनोद गुर्जर, विनोद रोहिल्ला सहित सैकड़ो लोग उपस्थित थे। कार्यक्रम का संचालन गांधीवादी पत्रकार कुमार कृष्णन ने किया।

#SwasthBharatYatra
#swasthBalikaSwasthSamaj
#Knowyourmedicine
#SwasthBharatAbhiyan
#swasthbharat
#HealthNews

तीन नये चिकित्‍सा महाविद्यालयों का शिलान्‍यास

The Union Minister for Health & Family Welfare, Shri J.P. Nadda and the Chief Minister of Jammu and Kashmir, Ms. Mehbooba Mufti laying the foundation stone for the new Medical College, at Baramulla, in Jammu and Kashmir on April 15, 2016. 	The Minister of State for Development of North Eastern Region (I/C), Prime Minister’s Office, Personnel, Public Grievances & Pensions, Department of Atomic Energy, Department of Space, Dr. Jitendra Singh and other dignitaries are also seen.

श्री जे.पी. नड्डा ने राजौरी, अनंतनाग एवं बारामूला में तीन नये चिकित्‍सा महाविद्यालयों का शिलान्‍यास किया
क्षेत्र में तृतीयक स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल एवं चिकित्‍सा शिक्षा को बड़ा प्रोत्‍साहन : जे.पी.नड्डा

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य एवं परिवार कल्‍याण मंत्री श्री जे.पी.नड्डा ने आज जम्‍मू एवं कश्‍मीर में राजौरी, अनंतनाग एवं बारामूला में तीन नये चिकित्‍सा महाविद्यालयों का शिलान्‍यास किया। श्री नड्डा ने कहा कि ‘नये चिकित्‍सा महाविद्यालय चिकित्‍सा ढांचे को मजबूत बनाएंगे और क्षेत्र में तृतीयक स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल एवं चिकित्‍सा शिक्षा को काफी प्रोत्‍साहित करेंगे।’ उन्‍होंने कहा कि प्रत्‍येक चिकित्‍सा महाविद्यालय के लिए 189 करोड़ रुपये के कुल परिव्‍यय के साथ तीनों नये चिकित्‍सा महाविद्यालय प्रति महाविद्यालय 100 सीटों के साथ राज्‍य में प्रति वर्ष 300 एमबीबीएस सीटों की वृद्धि करेंगे। इसके अतिरिक्‍त, प्रति महाविद्यालय से संबद्ध 300 बिस्‍तर सुविधा की वृद्धि के साथ जिलों में चिकित्‍सा बुनियादी ढांचे को मजबूत बनाया जाएगा।

इस अवसर पर आयोजित समारोहों के दौरान जम्‍मू और कश्‍मीर की मुख्‍यमंत्री सुश्री महबूबा मुफ्ती, पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास राज्‍य मंत्री (स्‍वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय में राज्‍य मंत्री, कार्मिक, लोक शिकायत एवं पेंशन, परमाणु ऊर्जा एवं अंतरिक्ष राज्‍य मंत्री डॉ. जितेन्‍द्र सिंह, जम्‍मू एवं कश्‍मीर के स्‍वास्‍थ्‍य एवं चिकित्‍सा शिक्षा मंत्री श्री बलि भगत एवं स्‍वास्‍थ्‍य एवं चिकित्‍सा शिक्षा राज्‍य मंत्री सुश्री आईसा नकाश भी उपस्थित थीं।

केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री ने कहा कि इन नई पहलों के अतिरिक्‍त, जम्‍मू एवं कश्‍मीर राज्‍य में जम्‍मू स्थित गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एवं श्रीनगर स्थित गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज का प्रति चिकित्‍सा महाविद्यालय 120 करोड़ रुपये (केंद्र सरकार का योगदान 115 करोड़ रुपये एवं राज्‍य सरकार का 5 करोड़ रुपये) के परिव्‍यय के साथ पीएमएसएसवाई के तहत उन्‍नयन के लिए चयन किया गया है। उन्‍होंने कहा कि राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन (एनएचएम) के तहत स्‍वीकृत कार्यक्रमों के क्रियान्‍वयन के लिए जम्‍मू एवं कश्‍मीर राज्‍य को शुरूआत से 2194.8 करोड़ रुपये तथा पिछले दो वित्‍त वर्षों के दौरान 688.8 करोड़ रुपये जारी किए गए हैं। श्री नड्डा ने कहा कि जम्‍मू एवं कश्‍मीर पूर्वोत्‍तर राज्‍यों की तरह प्रति व्‍यक्ति अधिक आवंटन प्राप्‍त कर रहा है। राज्‍य के पास हार्ड एरिया भत्‍ता का भी प्रावधान है, जहां चिकित्‍सा अधिकारी को अधिकतम 20 हजार रुपये प्रदान किए जाते हैं।

श्री नड्डा ने कहा कि माननीय प्रधानमंत्री ने 7 नवंबर, 2015 को जम्‍मू एवं कश्‍मीर के लिए विकास पैकेज की घोषणा की थी जिसमें एम्‍स जैसे दो संस्‍थानों का निर्माण शामिल है। इसके अतिरिक्‍त, जम्‍मू एवं कश्‍मीर में दो राज्‍य कैंसर संस्‍थानों के लिए प्रति संस्‍थान 120 करोड़ रुपये तक की एक बार की मंजूरी तथा कुपवाड़ा, किस्‍तवाड़ एवं उधमपुर जिलों में जिला अस्‍पताल में तीन तृतीयक देखभाल कैंसर केंद्रों (टीसीसीसी) में से प्रत्‍येक के लिए 45 करोड़ रुपये तक को भी मंजूरी दे दी गई है। श्री नड्डा ने कहा कि ये सभी नये कदम राज्‍य में स्‍वास्‍थ्‍य देखभाल सुविधाओं को उल्‍लेखनीय रूप से बेहतर बनाने में योगदान देंगे।