ताकि आप बन सकें जिम्मेदार मरीज…  

 

डॉक्टर व मरीज के बीच संवाद का होना बहुत जरूरी है...

डॉक्टर व मरीज के बीच संवाद का होना बहुत जरूरी है…

Shikhar Chand Jain For Swasthbharat.in

आजकल शायद ही  कोई व्यक्ति पूरी तरह स्वस्थ रहता हो। जाहिर है ऐसे में सबको डॉक्टर की सेवाएं लेनी पड़ती हैं। लेकिन इन दिनों हर पेशे में कुछ ऐसे लोग भी होते हैं, जो गलत तरीके से जरूरत से ज्यादा पैसे कमाना चाहते हैं या अपना मिथ्या प्रचार करके लोगों के साथ ठगी करते हैं। डॉक्टरी का पेशा भी इस प्रवृत्ति से अछूता नहीं है। इसलिए डॉक्टर के चयन में और उनसे मिलते वक्त कुछ सावधानियां बरतना अपेक्षित है।

सबसे पहले जनरल फीजिशियन – अपने परिवार की सेहत-सुरक्षा के लिए एक विश्वसनीय जनरल फीजिशियन का चयन करना बेहद जरूरी है। लेकिन ध्यान रहे, डॉक्टर आपके घर के आसपास हो, जरूरत के वक्त उपलब्ध रहते हों, कम से कम फोन पर हमेशा मिल जाएं ताकि आपातकाल में जरूरी सलाह दे सकें। वे कैसा इलाज करते हैं और कैसा व्यवहार है, इस बात की जानकारी आपको अपने आसपास के लोगों और परिचितों से मिल सकती है। किसी भी प्रकार की बीमारी में सबसे पहले अपने फीजिशियन से राय लेना लाभकारी होगा। वे आपको जरूरत पड़ने पर विशेषज्ञ डाक्टर के पास जाने की राय देंगे। हां, बच्चों के लिए शिशुरोग विशेषज्ञ के पास ही जाएं, तो बेहतर है।

जब विशेषज्ञ के पास जाएं – किसी विशेषज्ञ चिकित्सक के पास जाएं, तो उनके द्वारा लिखी गई दवाएं, लैब टेस्ट आदि की जानकारी अपने फैमिली फिजीशियन को जरूर दें। वे आपको राय देंगे कि वास्तव में सारी दवाएं और टेस्ट जरूरी हैं या कुछ टेस्टों या दवाओं के बगैर भी काम चल सकता है। इससे आप फिजूल दवाएं खाने और अनावश्यक टेस्ट के पैसे  खर्च करने से बच जाएंगे।

सेकेंड ओपीनियन बेहद जरूरी – अगर आप अपने फैमिली फिजीशियन या विशेषज्ञ डॉक्टर से इलाज करवा रहे हैं और दवा का कोर्स पूरा करने के बावजूद कोई फायदा नहीं मिल रहा या तबियत ज्यादा बिगड़ रही है, तो तुरंत सारे प्रिस्क्रिप्शन और लैब टेस्ट की रिपोर्ट आदि ले कर किसी दूसरे चिकित्सक से शारीरिक परीक्षण करवाएं और उनसे राय लें। कई बार चिकित्सक चाहकर भी रोग की सही पहचान नहीं कर पाते, ऐसे में दूसरे डॉक्टर की राय बेहद फायदेमंद होगी।

बनें, एक जिम्मेदार मरीज – जब भी किसी चिकित्सक के पास जाएं उन्हें ये जानकारियां जरूर दें – आप को किन दवाओं से एलर्जी है, आप कौन सी दवाएं लेते रहे हैं, ब्लडप्रेशर या डायबिटीज जैसी कोई बीमारी है या नहीं, कभी कोई आपरेशन करवाया है क्या, सही उम्र, ताजा टेस्ट रिपोर्ट (यदि कोई हैं) आदि। साथ   ही डॉक्टर साहब से अपने प्रिस्क्रिप्शन पर आपका बीपी, वजन, नाम, उम्र आदि भी लिखवा लें। रोग का संभावित डायग्नोसिस भी हर जिम्मेदार डॉक्टर लिखता है, यह चेक कर लें। दवा हमेशा प्रतिष्ठित दवा दुकान से खरीदें। दवा ज्यादा महंगी हो, तो आप तुलनात्मक रूप से सस्ते ब्राण्ड नाम का सुझाव मांग सकते हैं।

संपर्क- jainshikhar6@gmail.com

91-09339384766

 

0 replies

Leave a Reply

Want to join the discussion?
Feel free to contribute!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *