Frontpage Article SBA विशेष यात्रा रपट विमर्श समाचार स्वस्थ भारत अभियान स्वस्थ भारत यात्रा

केरल में जन-जन को दिया स्वास्थ्य का संदेश

केरल में स्वस्थ भारत यात्री अलग रंग में दिखे, जन-जन को दिया स्वास्थ्य का संदेश
• सागर किनारे मरिन ड्राइव पर निकाली रैली
• मंदिरों और मार्गों में मिले लोगों से कहा कि जेनरिक दवाई का करें इस्तेमाल, मंदिर भी होते हैं स्वास्थ्य के लिए सहायक
• केरल में वाम समर्थकों ने गांधी को समर्पित स्वस्थ भारत यात्रा को किया सलाम
कोच्चि, ( केरल) 11 फरवरी
तमिलनाडू के कोयमबटूर से दोपहर में चलकर भीषण गर्मियों से जूझते हुए स्वस्थ भारत यात्री जब केरल के एर्नाकुलम (कोच्चि) पहुंचे तो उनका स्वागत रिमझिम बरसात ने किया। केरल के संक्षिप्त दौरे में यात्री नुक्कड़ों, सड़कों और मंदिरों के परिसरों में लोगों से मिले और मरिन ड्राइव पर स्वस्थ भारत के तीन आयामः जनऔषधि पोषण और आयुष्मान विषय को लेकर रैली निकाली।
स्वस्थ भारत यात्रा के प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह के नेतृत्व में निकाली गई रैली में यात्रा दल के सदस्यों प्रसून लतांत, डॉ. सोम शेखर, अशोक प्रियदर्शी, प्रियंका सिंह, विवेक शर्मा, शंभू कुमार, विनोद रोहिल्ला एवं पवन कुमार के साथ- साथ बीपीपीआई के नोडल अधिकारी निशांत नैयर एवं सनल जी, हमजा चाकू, प्रेम जी, अश्वनी, रियाज मोहम्मद, शरीफ मोहम्मद समेत सैकड़ो लोग शामिल हुए। एशिया के सबसे बड़े प्राकृतिक बंदरगाह वाले इस शहर में रैली के दौरान मरिन ड्राइव पर यात्रा के उद्देश्य से संबंधित पर्चे पोस्टर देकर यात्रा के मकसद से वहां मौजूद लोगों को अवगत कराया।
देश की सुरक्षा के दृष्टिकोण से बेहद महत्वपूर्ण कोच्चि में नेवी के साउदर्न कमान का मुख्यालय भी है जहां समुद्री सुरक्षा के लिए एयर कैरियर आइएनएस तैनात है। यात्रा दल प्रमुख आशुतोष कुमार सिंह ने केरल की विविधता, कुदरती खूबसूरती और मौसम के बदलते मिजाज का जिक्र करते हुए कहा कि यह यात्रा महात्मा गांधी को समर्पित है। उनकी 150वीं जयंती वर्ष पर साबरमती आश्रम से 30 जनवरी से शुरू हुई है और अभी तक हमलोग गुजरात, महाराष्ट्र, दमन, कर्नाटक, तमिलनाडू होते हुए केरल पहुंचे हैं। उन्होंने केरल के लोगों की संतुलित जीवन शैली की तारीफ करते हुए कहा कि केरल में स्वास्थ्य के प्रति लोगों में अधिक चेतना है और उनकी इस चेतना से देश के अन्य राज्य के लोग भी लाभान्वित होते रहते हैं। चिकित्सक द्वारा दिए गए दवा का वे पूरी समझ-बूझ के साथ इस्तेमाल करते हैं।
कोच्चि के सबसे पुराने महादेव मंदिर में पहुंचकर यात्रियों ने एक ओर जहां महादेव मंदिर, हनुमान मंदिर एवं कार्तिकेय मंदिर में जाकर पूजा-अर्चना की वहीं दूसरी तरफ यहां आए श्रद्धालुओं को जेनरिक दवा, पोषण एवं आयुष्मान के बारे में जानकारी दी। यहां पर वरिष्ठ पत्रकार व यात्री दल सदस्य प्रसून लतांत ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि मंदिर भी मन के सफाई करने वाला स्वास्थ्य गृह है,जहां प्रार्थना के जरिए हम मन और तन में सकारात्मक ऊर्जा हासिल करते हैं। स्वस्थ भारत यात्रा का मकसद सिर्फ तन की बेहतरी तक सीमित नहीं है बल्कि मानसिक जागृति के लिए भी सक्रिय होना है। यहां पर हजारों की तादाद में उत्तर भारत के लोग हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी एक विशेष आध्यात्मिक कार्य हेतु मौजूद थे।
कोच्चि से चलकर स्वस्थ भारत यात्री कोट्टयम जिले के एटमनूर स्थित शिव मंदिर पहुंचे। कहा जाता है कि भगवान परशुराम ने कोट्टयम जिले में तीन शिवलिंग की स्थापना की थी इनमें से एटमनूर शिवमंदिर का सर्वाधिक महत्व है। यहां साल भर श्रद्धालुओं का ताता लगा रहता है। यहां पहुंचकर यात्री दल ने लोगों से बातचीत कर अपने मकसद से अवगत कराया। इस मुहिम के बारे में जानकर वहां उपस्थित लोग बहुत उत्साहित हुए एवं यात्री दल का मनोबल बढ़ाया। कोट्टयम से त्रिची के रास्ते में यात्री दल को सीपीएम समर्थक युवाओं का भी साथ मिला। यात्री दल ने उन्हें अपने मकसद के बारे में बताया और कहा कि यह यात्रा गांधी के विचारों को आगे बढ़ाने के लिए है। इस बात से वे बहुत उत्साहित हुए एवं यात्रा के मकसद को कामयाब होने की कामना की।
इस अवसर पर बीपीपीआई के केरला के अधिकारी निशांत नैयर को आभार पत्र व 10 जनऔषधि केन्द्र संचालकों को स्वस्थ भारत (न्यास) की ओर से सहभागिता पत्र प्रदान किया गया।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में 7 वर्षों से सक्रिय है स्वस्थ भारत

विगत 7 वर्षों से स्वास्थ्य एडवोकेसी के क्षेत्र में काम कर रहे स्वस्थ भारत (न्यास) ने महात्मा गांधी के 150 वीं जयंती वर्ष में उन्हें श्रद्धासुमन अर्पित करने की अनूठी पहल की है। संस्था ने गांधी को याद करते हुए स्वस्थ भारत अभियान के अंतर्गत स्वस्थ भारत के तीन आयामः जनऔषधि पोषण और आयुष्मान विषय पर देश की आम जनता को जागरूक करने का मैराथन संकल्प लिया है।
‘कंट्रोल मेडिसिन मैक्सिमम् रिटेल प्राइस’, ‘जेनरिक लाइए पैसा बचाइए’, ‘नो योर मेडिसिन’, तुलसी लगाइए रोग भगाइए’, ‘नो योर डॉक्टर नो योर फार्मासिस्ट’ एवं ‘स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज’ सहित दर्जनों जागरुकता अभियानों के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के प्रति सचेत एवं जागरूक करने का न्यास ने प्रयास किया है।
संस्था ने ‘स्वस्थ बालिका स्वस्थ समाज’ विषय को लेकर 2017 में देशव्यापी स्वस्थ भारत यात्रा की। इस दौरान लाखों बालिकाओं से प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष संवाद स्थापित कर बालिका स्वास्थ्य के मसले को एक दिशा एवं गति देने का काम किया है। इसी कड़ी में एक बार फिर से संस्था स्वस्थ भारत यात्रा-2 लेकर निकली है। इस यात्रा का ध्येय वाक्य है- ‘स्वस्थ भारत के तीन आयाम जनऔषधि, पोषण और आयुष्मान’।
यात्रा के सहयोगी
स्वस्थ भारत यात्रा के राष्ट्रीय संयोजक अनिल सौमित्र ने बताया कि इस यात्रा में तमाम सरकारी व गैर-सरकारी संस्थाओं का सहयोग एवं समर्थन मिल रहा है। ‘प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना’, ब्रेन बिहैवियर रिसर्च फाउंडेशन ऑफ इंडिया, मेवाड़ विश्वविद्यालय, कस्तूरबा हेल्थ सोसाइटी, स्पंदन, हीलिंग सबलाइम फाउंडेशन, सोशल रिफॉर्म्स एवं रिसर्च ऑर्गनाइजेशन, सर्च फाउंडेशन, हिन्दुस्थान समाचार समूह सहित तमाम जनसरोकारी गैर-सरकारी संस्थाओं, साइनोकेम फार्मास्यूटिकल्स लिमिटेड, क्योरटेक स्कीनकेयर, मस्कट हेल्थ सीरीज प्रा. लिमिटेड, और सनकेयर फार्मास्यूटिकल्स प्रा.लिमिटेड जैसी गुणवत्तायुक्त जेनरिक दवा बनाने वाली फार्मा कंपनियों के साथ-साथ देश के कई शिक्षण संस्थानों का सहयोग एवं समर्थन प्राप्त हो रहा है।
इस यात्रा में वरिष्ठ पत्रकार एवं इंदिरा गांधी कला केन्द्र के अध्यक्ष रामबहादुर राय, कनेरी मठ के श्री काडसिद्धेश्वर स्वामी जी, कर्नाटक हेल्थ इंस्टिट्यूट के प्रमुख और प्रख्यात चिकित्सक डाँ. घनश्याम वैद्य, वरिष्ठ शिक्षाविद एवं पूर्व प्रधानमंत्री चन्द्रशेखर की पदयात्रा के संयोजक रहे एचएन शर्मा, मेवाड़ विश्वविद्यालय के चेयरमैन अशोक गदिया, देश-दुनिया के जाने-माने हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉ. अनुराग अग्रवाल, वरिष्ठ न्यूरो सर्जन डॉ. मनीष कुमार, वरिष्ठ ब्रेन एनालिस्ट डॉ. आलोक मिश्रा, वरिष्ठ पत्रकार अरविंद कुमार सिंह, उमेश चतुर्वेदी, ओमप्रकाश अश्क, ओमप्रकाश तिवारी सहित सैकड़ों पत्रकार मित्रों का सहयोग प्राप्त हो रहा है। इसके साथ ही लाइफ एवं वेलनेस कोच डॉ. अभिलाषा द्विवेदी, वरिष्ठ स्तंभकार शशांक द्विवेदी एवं स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ. ममता ठाकुर का विशेष मार्गदर्शन एवं सहयोग प्राप्त हो रहा है। स्वस्थ भारत के संरक्षक मंडल एवं मार्गदर्शक मंडल के वैचारिक सहयोग ने इस यात्रा को परिकल्पित करने में विशेष मदद की है।

संपर्क
स्वस्थ भारत मीडिया टीम
9811128964,9891228151

Related posts

स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की सलाह, सभी स्वास्थ्यकर्मी हेपेटाइटीस बी का टीका जरूर लगवाएं

swasthadmin

द लांसेट : जलवायु परिवर्तन से खाद्य उत्पादन पर पड़ने वाला प्रभाव वर्ष 2050 तक ले सकता है 05 लाख अतिरिक्त लोगों की जान

swasthadmin

स्वस्थ भारत यात्रा

swasthadmin

Leave a Comment