SBA विशेष

तीन वर्ष का हुआ स्वस्थ भारत अभियान का प्रेरणास्रोत…

स्वस्थ भारत अभियान के प्रेरणास्रोत सिद्दिद यादव
स्वस्थ भारत अभियान के प्रेरणास्रोत सिद्दिद यादव

 

मित्रो, हमसे लगातार यह सवाल पूछा जाता है कि स्वस्थ भारत अभियान कब और क्यों शुरू हुआ? 22 जून 2012 की वह शाम मुझे आज भी याद है। मालाड, मुंबई के सूचक अस्पताल में अपने मित्र अजय यादव की बीमार पत्नी पुष्पा यादव को देखने गया था। अजय भाई ने मुझे दवा लाने के लिए पर्ची थमा दी थी। अस्पताल प्रांगण में दवा बेच रहे दुकानदार ने 117 रुपये में आईवी सेट दिया था। मैंने विरोध किया था। मैं जानता था कि यह महज 10-12 रुपये का सर्जिकल आइटम है। लेकिन दुकानदार ने मजबूरी का फायदा उठाते हुए एम.आर.पी से कम पर दवा देने से मना कर दिया था। तब शिद्दिद गर्भ में था। उस दिन मैंने स्वास्थ्य व्यवस्था में व्याप्त भ्रष्टाचार को खत्म करने का संकल्प लिया था! उसी के तहत स्वस्थ भारत अभियान की शुरूआत हुई। 17 सितंबर, 2012 को शिद्दिद का जन्म हुआ। तब तक यह अभियान फेसबुक से बाहर निकलकर पूरे देश में लोगों को सोचने के लिए मजबूर कर चुका था। धीरे-धीरे कारवां चलता गया। पिछले वर्ष आज ही के दिन यानी शिद्दिद के दूसरे जन्म दिन के अवसर पर हमलोगों ने www.swasthbharat.in वेब-पोर्टल लॉन्च करने की घोषणा की थी। देखते-देखते यह पोर्टल आज स्वास्थ्य की गतिविधियों पर नज़र रखने वाला एक प्रमुख समाचार पोर्टलों में सुमार हो चुका है।
आज शिद्दिद का तीसरा जन्मदिन है। शिद्दिद हमेशा से इस अभियान का प्रेरणास्रोत रहा है। शिद्दिद गर्भा-काल से ही हमें प्रेरणा देता रहा है कि देश में स्वास्थ्य एक बहुत बड़ा मसला है। इस पर सोचना-समझना बहुत जरूरी है। स्वस्थ भारत अभियान के इस छोटे सम्राट को पूरी टीम की ओर से जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं प्रेषित करता हूं।

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
आशुतोष कुमार सिंह
आशुतोष कुमार सिंह भारत को स्वस्थ देखने का सपना संजोए हुए हैं। स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर पत्र-पत्रिकाओं में अनेक आलेख लिखने के अलावा वह कंट्रोल एमएमआरपी (मेडिसिन मैक्सिमम रिटेल प्राइस) तथा 'जेनरिक लाइये, पैसा बचाइये' जैसे अभियानों के माध्यम से दवा कीमतों व स्वास्थय सुविधाओं पर जन जागरूकता के लिए काम करते रहे हैं। संपर्क-forhealthyindia@gmail.com, 9891228151
http://www.swasthbharat.in

प्रातिक्रिया दे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.