• Home
  • समाचार
  • सरकार का पहला धर्म नागरिकों की स्वास्थ्य रक्षा होना चाहिएः आशुतोष कु.सिंह
समाचार स्वस्थ भारत अभियान

सरकार का पहला धर्म नागरिकों की स्वास्थ्य रक्षा होना चाहिएः आशुतोष कु.सिंह

किसी भी राष्ट्र के विकास को मापने का उत्तम मानक वहां का स्वस्थ समाज होता है। नागरिकों की स्वास्थ्य का सीधा असर उनके कार्य-शक्ति पर पड़ता है। नागरिक कार्य-शक्ति का सीधा संबंध राष्ट्रीय उत्पादन-शक्ति से है। जिस देश की उत्पादन शक्ति मजबूत है वह वैश्विक स्तर पर विकास के नए-नए मानक गढ़ने में सफल होता रहा है। इस संदर्भ में यह स्पष्ट हो जाता है कि किसी भी राष्ट्र के विकास में वहां के नागरिक-स्वास्थ्य का बेहतर होना बहुत ही जरूरी है। शायद यही कारण है कि अमेरिका जैसे वैभवशाली राष्ट्र की राजनीतिक हलचल में स्वास्थ्य का मसला अपना अहम स्थान पाता है। दरअसल किसी भी राष्ट्र के लिए अपने नागरिकों की स्वास्थ्य की रक्षा करना पहला धर्म होता है। उपरोक्त बातें स्वस्थ भारत अभियान के राष्ट्रीय संयोजक आशुतोष कुमार सिंह ने कही। दिल्ली के बदरपुर में स्वास्थ्य और स्वच्छता विषय पर आयोजित परिचर्चा में वो बोल रहे थे।

स्वास्थ्य व स्वच्छता पर बोलते हुए दाएं से आशुतोष कुमार सिंह, अफरोज आलम साहिल, ऋतेश पाठक, कनिष्क कश्यप व डॉ. के.के.तिवारी
स्वास्थ्य व स्वच्छता पर बोलते हुए दाएं से आशुतोष कुमार सिंह, अफरोज आलम साहिल, ऋतेश पाठक, कनिष्क कश्यप व डॉ. के.के.तिवारी

महात्मा गांधी के स्वास्थ्य दर्शन से लोगों को परिचित कराते हुए श्री आशुतोष ने अपने संबोधन के अंत में कहा कि क्या हम गणतंत्र दिवस के इस पावन अवसर पर स्वास्थ्य व स्वच्छता के प्रति एक आत्म संविधान बनाने का संकल्प ले सकते हैं। परिचर्चा को आगे बढ़ाते हुए नागरिक अधिकारों के प्रति लोगों को जागरूक करने वाले आरटीआई कार्यकर्ता अफरोज आलम साहिल ने कहा कि हमें सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं पर भी कड़ी नज़र रखनी चाहिए। स्वास्थ्य व स्वच्छता को तकनीक से कैसे जोड़ा जाए इस संदर्भ को सोशल मीडिया एक्टिविस्ट कनिष्क कश्यप ने बखूबी समझाया। इस बावत उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा संचालित विभिन्न स्वास्थ्य योजनाओं मसलन एमसीटीएस (मदर एंड चाइल्ड  ट्रैकिंग सिस्टम) में जनसहभागिता अत्यंत महत्वपूर्ण है ताकि बचपन से ही एक बच्चे का हेल्थ रिकॉर्ड रखा जा सके, जो प्रभावी उपचार के लिए आवश्यक है।
डॉ.के.के तिवारी ने अस्वच्छता से फैल रही बीमारोयों के प्रति लोगों को सचेत किया। परिचर्चा की शुरूआत जानी-मानी लोकगायिका सीमा तिवारी के स्वागत गान से हुआ। धन्यवाद ज्ञापन सिम्पैथी के निदेशक डॉ. रंजीत कांत ने दिया। परिचर्चा का संचालन पत्रकार ऋतेश पाठक ने किया।
200 मरीजों का हुआ मुफ्त चेकअप
गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य पर सिम्पैथी संस्था ने हेल्थ चेकअप कैंप का आयोजन किया। इसमें तकरीबन 200 मरीजों को मुफ्त में इलाज किया गया। इस बावत संस्था के निदेशक डॉ. आर.कांत ने बताया कि उनकी संस्था पिछले 6 वर्षों से लोक-स्वास्थ्य पर काम कर रही है।
आशुतोष कुमार सिंह व स्वस्थ भारत अभियान की टीम को दवाइयों के बारे बताते हुए सिम्पैथी के निदेशक डॉ. आर.कांत (दाएं)
आशुतोष कुमार सिंह व स्वस्थ भारत अभियान की टीम को दवाइयों के बारे बताते हुए सिम्पैथी के निदेशक डॉ. आर.कांत (दाएं)

Related posts

पांच करोड़ गरीब लोगों को धुएं से मुक्ति मिलेगीः प्रधानमंत्री

एम्स जैसी सुविधा आइएमएस बीएचयू में भी मिलेगी, दोनों संस्थानों के बीच हुआ समझौता

swasthadmin

आयुष्मान भारत योजना से स्वस्थ, समृद्ध व खुशहाल होगा देश, दांतों की कई समस्याओं को किया गया है शामिल: श्री अश्विनी चौबे

Leave a Comment

Login

X

Register