अस्पताल समाचार

अंखड ज्योति आई अस्पतालः जहां 5 लाख लोगों की निःशुल्क हुई आंखों की सर्जरी…

अखंड ज्योति आई हॉस्पिटल के रजनीकांत केन्द्र  का उद्घाटन केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने  किया

देश के पांच बड़े आंखों के अस्पताल में सुमार है अखंड ज्योति आई हॉस्पिटल

नई दिल्ली/बलिया/9.06.18

अंध मुक्त बलिया के लक्ष्य को दिशा देने के लिए यूपी के बलिया जिला के सहरस पाली में अखंड ज्योति आई हॉस्पिटल रजनीकांत केन्द्र खुला है। इसका उद्घाटन केन्द्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री जे.पी.नड्डा ने किया। केन्द्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अनुप्रिया पटेल, यूपी के स्वास्थ्य मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह, नीति आयोग के सदस्य विनोद कुमार पॉल, जिलाधिकारी भवानी सिंह, नीति आयोग में स्वास्थ्य विषयक सलाहकार आलोक कुमार की उपस्थिति में इस केन्द्र का उद्घाटन करने आए केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि, अंखड ज्योति आई अस्पताल के रजनीकांत केन्द्र का उद्घाटन करते हुए आशा करता हूं कि  आंखों के देखभाल के क्षेत्र में  यह केन्द्र सस्ती एवं सुलभ सेवा देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। मैं पूरी तरह आश्वस्त हूं कि यह केन्द्र उच्च गुणवत्ता की के साथ आंखों की देखभाल करने में सफल होगा और अंधेपन को दूर करने के लिए चलाए जा रहे राष्ट्रीय कार्यक्रम को सफल बनाने में सहायक भी साबित होगा।

गौरतलब है कि अंखड ज्योति आई अस्पताल 2006 से अभी तक 6 लाख से ज्यादा आंखों की सर्जरी कर चुका है। जिसमें तकरीबन 80 फीसद सर्जरी मुफ्त में की गई है। वर्तमान समय में भारत के पांच बड़े आंखों के अस्पताल में से एक अखंड ज्योति आई हॉस्पिटल भी है।

रजनी कांत जी कौन थे?

रजनीकांत जी का जन्म 1917 में पुरास, बलिया के एक समृद्ध परिवार में हुआ था। उनके पिता कालिका प्रसाद जी बलिया के एक जाने-माने वकिल थेष। रजनीकांत जी ने बलिया में शिक्षा प्राप्त की और काशी हिन्दु विश्वविद्यालय से एल.एल.एम किया। रजनीकांत जी उदारता एवं मानवता के प्रतीक थे, उनके दिल में गरीबो और जरूरतमंदो के लिए खास जगह थी।

अखंड ज्योति केन्द्र का पता

अंखंड ज्योति आई अस्पताल, रजनीकांत केन्द्र, एनएच 19, सहरस पाली, बलिया, उत्तर प्रदेश-277001

यदि लेख/समाचार से आप सहमत है तो इसे जरूर साझा करें
आशुतोष कुमार सिंह
आशुतोष कुमार सिंह भारत को स्वस्थ देखने का सपना संजोए हुए हैं। स्वास्थ्य संबंधी विषयों पर पत्र-पत्रिकाओं में अनेक आलेख लिखने के अलावा वह कंट्रोल एमएमआरपी (मेडिसिन मैक्सिमम रिटेल प्राइस) तथा 'जेनरिक लाइये, पैसा बचाइये' जैसे अभियानों के माध्यम से दवा कीमतों व स्वास्थय सुविधाओं पर जन जागरूकता के लिए काम करते रहे हैं। संपर्क-forhealthyindia@gmail.com, 9891228151
http://www.swasthbharat.in

प्रातिक्रिया दे

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.